1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. calcutta
  5. tmc and mamata banerjee thought they will win 2021 election with the vote of khan qureshi owaisi now another man has come to take their vote said bjp leader locket chatterjee mtj

खान, कुरैशी, ओवैसी के वोट से 2021 का चुनाव जीतने का ख्वाब देख रहे थे, तृणमूल पर भाजपा का कटाक्ष

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
West Bengal Election 2021: खान, कुरैशी, ओवैसी के वोट से 2021 का चुनाव जीतने का ख्वाब देख रहे थे, तृणमूल पर भाजपा का कटाक्ष.
West Bengal Election 2021: खान, कुरैशी, ओवैसी के वोट से 2021 का चुनाव जीतने का ख्वाब देख रहे थे, तृणमूल पर भाजपा का कटाक्ष.
Prabhat Khabar

West Bengal Election 2021: कोलकाता : ‘तृणमूल कांग्रेस और ममता बनर्जी इतने दिनों से खान, कुरैशी, ओवैसी सबको जेब में लेकर घूम रहे थे. सोच रहे थे कि इन्हीं खान, कुरैशी, ओवैसी के सहारे 2021 का चुनाव जीत लेंगे. अब एक और आदमी आ गया है, इनका वोट हासिल करने. लोग आ ही सकते हैं. भारत गणतांत्रिक देश है. कोई भी पार्टी बना सकता है. चुनाव लड़ सकता है.’

ये बातें भारतीय जनता पार्टी की सांसद लॉकेट चटर्जी ने रविवार को कहीं. हैदराबाद की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के बंगाल दौरे से उपजी स्थिति के मद्देनजर राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए भाजपा नेता ने यह टिप्पणी की.

लॉकेट चटर्जी ने दावा किया कि वर्ष 2021 में पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी की ही सरकार बनेगी. पार्टी 200 से अधिक सीटें जीतेगी और अकेले अपने दम पर सरकार बनायेगी. राज्य की जनता और भाजपा के कार्यकर्ताओं ने तृणमूल कांग्रेस और ममता बनर्जी को सत्ता से बेदखल करने का निर्णय कर लिया है.

भाजपा सांसद ने कहा कि एक बात समझ लीजिए. कोई खान, कोई कुरैशी, ओवैसी या फुरफुरा शरीफ सरकार बनाने में सक्षम नहीं है. कुल मिलाकर 30 फीसदी मुस्लिम वोटों की मारामारी है. तृणमूल और ममता बनर्जी को इन पर भरोसा था. अब उनके सिर में दर्द होने लगा है, जब वे देख रहे हैं कि इस 30 फीसदी वोटों के दूसरे दावेदार भी आ गये हैं. भाजपा आम लोगों की मदद से अकेले राज्य में सरकार बनायेगी. ममता को भी ये बात समझ आ गयी है.

दरअसल, बिहार चुनाव 2020 में सीमांचल में 5 सीटें जीतने वाली पार्टी एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के हौसले बुलंद हैं. उन्होंने पूरे देश में अपनी पार्टी को मजबूत बनाने का एलान कर दिया है. इससे पहले ही उन्होंने कह दिया था कि वह पश्चिम बंगाल में चुनाव लड़ेंगे. बाद में उत्तर प्रदेश में भी 2022 का चुनाव लड़ने का एलान कर दिया.

एआईएमआईएम के प्रमुख रविवार को कोलकाता पहुंचे और वहां से सीधे हुगली जिला के श्रीरामपुर स्थित फुरफुरा शरीफ गये. फुरफुरा शरीफ के पीरजादा से मुलाकात करने के बाद कहा कि उनकी पार्टी अब पीरजादा अब्बास सिद्दीकी की अगुवाई में आगे बढ़ेगी. ओवैसी ने कहा कि आगे की रणनीति भी वही बनायेंगे. हालांकि, उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी इस बार बंगाल चुनाव जरूर लड़ेगी.

एआईएमआईएम चीफ ने फुरफुरा शरीफ के पीरजादा से मुलाकात के बाद ममता बनर्जी और तृणमूल कांग्रेस को निशाने पर लिया. उन्होंने कहा कि भाजपा अगर बंगाल में मजबूत हो रही है, तो इसके लिए तृणमूल कांग्रेस ही जिम्मेदार है. वहीं, फुरफुरा शरीफ के पीरजादा से ओवैसी की मुलाकात के बाद तृणमूल कांग्रेस की चिंता बढ़ गयी है.

यहां बताना प्रासंगिक होगा कि ओवैसी ने जब पश्चिम बंगाल में 2021 का चुनाव लड़ने का एलान किया था, तब ममता बनर्जी ने एआईएमआईएम को हैदराबाद की पार्टी बताते हुए उसे भाजपा की बी टीम कहा था. कहा था कि भाजपा ओवैसी की पार्टी को चुनाव के समय पैसे देती है और उस पैसे पर हैदराबाद का एक आदमी चुनाव लड़ता है. भाजपा की मदद करता है.

Posted By : Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें