1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. calcutta
  5. politics begins in bengal over amfan bjp accuses mamta government wants to take political advantage even in disaster

बंगाल में 'अम्फान' को लेकर राजनीति शुरू, भाजपा का आरोप, कहा- विपदा में भी राजनीतिक लाभ लेना चाहती है ममता सरकार

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
भाजपा के महासचिव व प्रदेश भाजपा के केंद्रीय प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष.
भाजपा के महासचिव व प्रदेश भाजपा के केंद्रीय प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष.
फोटो : सोशल मीडिया.

कोलकाता : चक्रवाती तूफान अम्फान (CM Mamta Banerjee) से प्रभावित लोगों में राहत सामग्री वितरित करने जा रहे प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष (Dilip Ghosh) को रोके जाने व भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले पर भाजपा के महासचिव व प्रदेश भाजपा के केंद्रीय प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) ने तीखी प्रतिक्रिया जतायी है.

श्री विजयवर्गीय ने ट्वीट किया कि आपदा के समय भी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश कर रही हैं. ममता जी ने हर चीज का राजनीतिकरण कर दिया है. वह न तो भाजपा नेताओं को आम लोगों तक पहुंचने देना चाहती हैं और न ही खुद भी लोगों का दु:ख- दर्द कम करने की कोशिश करती हैं. उनकी सरकार पूरी तरह से असफल रही है.

उल्लेखनीय है कि इसके पहले भी भाजपा नेताओं ने कोरोना महामारी (Corona Pendamic) के दौरान भाजपा नेताओं द्वारा राहत कार्य करने पर तृणमूल सरकार पर रोकने का आरोप लगाया था. कई भाजपा सांसदों को उनके घरों में भी नजरबंद कर दिया गया था और कइयों को इलाके में जाने से रोक दिया गया था.

उन्होंने कहा कि ममता जी कोरोना महामारी में भी भाजपा सांसदों व नेताओं को रोका. उन्हें जनता के पास जाने नहीं दिया और अब चक्रवाती तूफान को लेकर राज्य की तरह त्राहि-त्राहि कर रही है, लेकिन यहां भी ममता जी राजनीति कर रही हैं और भाजपा नेताओं से आम लोगों के पास जाने से रोक रही हैं. भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले कर उन्हें रोकने की कोशिश की जा रही है, लेकिन भाजपा तृणमूल कांग्रेस के अत्याचार से डरेगी नहीं. दूसरी ओर, प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष जयप्रकाश मजूमदार ने ट्वीट के माध्यम से बताया कि दीदी डर गयी है. इस तरह से जनता के असंतोष को रोका नहीं जा सकता है.

ममता शासनकाल में बदहाली में पहुंचा बंगाल : दिलीप घोष

शनिवार को दक्षिण 24 परगना के चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने जा रहे प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष को पुलिस ने बलपूर्वक पाटुली ब्रिज के पास ही रोका था. उनके साथ भारतीय जनता पार्टी के नेता और कार्यकर्ता थे. श्री घोष पुलिस के अधिकारियों से यह समझने की कोशिश कर ही रहे थे कि उन्हें क्यों रोका गया है. आरोप है कि इसी बीच बड़ी संख्या में तृणमूल कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता एकत्रित हो गये और पुलिस के सामने ही भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं पर हमले कर दिये गये. दो भाजपा कार्यकर्ताओं का सिर फट गया है जबकि कई अन्य घायल हुए हैं.

श्री घोष ने आरोप लगाया है कि पुलिसकर्मियों ने लाठीचार्ज किया है और तृणमूल कर्मियों के साथ मिलकर भाजपा कार्यकर्ताओं को मारा- पीटा गया है. उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर तृणमूल कांग्रेस वाले मारपीट चाहते हैं, तो वह भी हिंसा के लिए तैयार हैं, पीछे नहीं हटेंगे.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हमला बोलते हुए दिलीप घोष ने कहा कि ममता कहती हैं कि वह राजनीति नहीं करेंगी, लेकिन अब उन्हें रोककर जो किया जा रहा है, वह क्या है? क्या यह राजनीति नहीं है? श्री घोष ने कहा कि मैं पीड़ित लोगों से मिलने के लिए जा रहा था. मुझे क्यों रोका गया? अगर मुझे रोका गया, तो तृणमूल कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने हमले क्यों किये?

उन्होंने कहा कि बंगाल ममता के शासनकाल में बदहाली की ओर है. हर चीज में राजनीति और हिंसा हावी है. श्री घोष पूछा कि आखिर चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में जाकर वह लोगों से क्यों नहीं मिल सकते? वह हालात का आकलन क्यों नहीं कर सकते हैं?

उन्होंने राज्य प्रशासन पर ममता के इशारे पर हमला करने का आरोप लगाया. हालांकि, दिलीप पुलिस के रोकने पर वापस लौट आये. उन्होंने कहा कि राजनीति करना नहीं चाहते, लेकिन तृणमूल कांग्रेस वाले जो चाहते हैं उसका जवाब उन्हीं की भाषा में देंगे.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें