1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. calcutta
  5. hundreds indians stranded in china sea adhir ranjan chowdhury writes letter to pm narendra modi to bring them back secured mtj

चीन की समुद्री सीमा में फंसे सैकड़ों भारतीय, अधीर ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर सुरक्षित वापस लाने की लगायी गुहार

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
चीन की समुद्री सीमा में फंसे सैकड़ों भारतीय, अधीर ने प्रधानमंत्री को पत्र लिख कर सुरक्षित वापस लाने की लगायी गुहार.
चीन की समुद्री सीमा में फंसे सैकड़ों भारतीय, अधीर ने प्रधानमंत्री को पत्र लिख कर सुरक्षित वापस लाने की लगायी गुहार.
File Photo

कोलकाता (नवीन कुमार राय) : कांग्रेस संसदीय दल के नेता और पश्चिम बंगाल प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर चीन की समुद्री सीमा में फंसे भारतीय नाविकों को बचाने की गुहार लगायी है.

अपने पत्र में अधीर रंजन ने लिखा है कि पिछले कई महीनों से हिंदुस्तान के दो मालवाहक समुद्री जहाज एमवी अंस्तापिया और जय आनंद समेत कई छोटे जहाज चीन की समुद्री सीमा में फंसे हुए हैं. चीन सरकार की तरफ से न तो उन्हें चीन की बंदरगाह में जाने दिया जा रहा है, न ही उन्हें वापस भारत लौटने की इजाजत दी जा रही है.

नतीजतन सैकड़ों भारतीय नागरिक, जो नाविक हैं, उन जहाजों में फंसे हुए हैं. उनको सकुशल स्वदेश लाने की दिशा में केंद्र सरकार से उन्होंने पहल करने की अपील की है. अपने पत्र में उन्होंने लिखा कि सीमा पर लद्दाख में भारत और चीन के बीच चल रहे तनाव का खामियाजा निर्दोष लोगों को भुगतना पड़ रहा है. केंद्र सरकार इन्हें सुरक्षित लाने की पहल करे.

महीनों से समुद्र में फंसे हैं नाविक

उल्लेखनीय है कि महीनों से समुद्र के बीचोबीच फंसे इन नाविकों को चीन ने पहले अपने बंदरगाह में घातक कोरोना वायरस के संक्रमण का हवाला देते हुए नाविकों को देश में उतरने देने से मना कर दिया था. इन जहाजों पर कोयला लदा है. माल उतारे बगैर शिप पर मौजूद लोग वहां से लौट भी नहीं पा रहे हैं.

जहाज पर फंसे नाविक डिप्रेशन में, आत्महत्या की कोशिश की

जहाज पर सवार कई नाविक डिप्रेशन का शिकार हो गये हैं. कई नाविकों ने आत्महत्या करने तक का प्रयास किया है. लेकिन, हालात में सुधार नहीं होता देख अधीर रंजन चौधरी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर मामले को तुरंत निबटाने की अपील की है.

Posted By : Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें