1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. calcutta
  5. durga puja 2020 entry and exit doors will be separated with open pandal government formal guideline for durga puja

Durga Puja 2020 : ओपेन पंडाल के साथ प्रवेश व निकासी द्वार होगा अलग, दुर्गा पूजा के लिए सरकार की औपचारिक गाइडलाइन हुई जारी

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Bengal news : कोविड- 19 के बीच बंगाल में दुर्गापूजा को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सरकार ने जारी की गाइडलाइन.
Bengal news : कोविड- 19 के बीच बंगाल में दुर्गापूजा को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सरकार ने जारी की गाइडलाइन.
फाइल फोटो.

Bengal news, Kolkata news : कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) की नेताजी इंडोर स्टेडियम (Netaji Indoor Stadium) में पूजा की गाइडलाइन (Puja Guidelines) जारी किये जाने के बाद औपचारिक तौर पर इसकी गाइडलाइन जारी कर दी गयी. मुख्य सचिव की ओर से जारी गाइडलाइन में कहा गया है कि कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus infection ) के बीच इस वर्ष की पूजा आयोजित हो रही है. इसके लिए पर्याप्त सुरक्षा उपाय जरूरी हैं. पूजा कमेटियों को खुद की और आने वाले दर्शनार्थियों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी होगी.

इस बार होगा ओपेन पंडाल

कोरोना संक्रमण को देखते हुए ममता सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन में बताया गया कि दुर्गापूजा का आयोजन बड़े पंडाल में हो. साथ ही पंडाल सभी दिशा से खुले हों. पंडाल आने वाले लोगों के लिए मास्क एवं सोशल डिस्टैंसिंग अनिवार्य है. जो मास्क पहन कर नहीं आयेंगे उन्हें मास्क देने की व्यवस्था की जाये. हैंड सैनिटाइजर भी पंडाल परिसर में उपलब्ध कराये जायें. पर्याप्त संख्या में स्वयंसेवकों की मौजूदगी होनी चाहिए.

छोटे समूहों में पूजा

दर्शनार्थियों के बीच शारीरिक दूरी का अनुपालन भी सुनिश्चित किया जाना चाहिए. वॉलंटियर फेस मास्क एवं फेस शील्ड पहने होना चाहिए. अंजलि, प्रसाद वितरण, सिंदूर खेला योजनाबद्ध तरीके से करनी होगी. यह सुनिश्चित करना होगा कि छोटे समूहों में इनका आयोजन हो. पूजा पंडाल के भीतर या करीब किसी सांस्कृतिक कार्यक्रम की इजाजत नहीं होगी.

श्रद्धालुओं की आवाजाही लगातार होगी

पूजा अवार्ड कार्यक्रमों का आयोजन काफी छोटे स्तर पर हो. बड़े काफिले में जजों के मंडप परिसर में प्रवेश की इजाजत नहीं होगी. सुबह 10 बजे से दोपहर 3 बजे के भीतर उनके आगमन का समय होना चाहिए. पूजा आयोजक इलेक्ट्रॉनिक एवं सोशल मीडिया में जोर देकर लोगों को भीड़ से बचने के लिए उत्साहित करें. दर्शकों की आवाजाही लगातार होनी चाहिए. भीड़ कहीं रुक के न रहे.

तृतीया से ही श्रद्धालु करें दर्शन

उद्घाटन एवं विसर्जन भी छोटे स्तर पर होनी चाहिए. पूजा आयोजन संबंधी विभिन्न मंजूरी के लिए ऑनलाइन आवेदन ही किये जायें. आयोजक यह सुनिश्चित करें कि तृतीया से ही दर्शक मंडपों एवं प्रतिमाओं का दर्शन कर सकें. महामारी के मद्देनजर इस बार रेड रोड पर पूजा कार्निवल नहीं होगा. पूजा के दौरान राज्य सरकार तथा अन्य पब्लिक एवं निजी संस्थान पूजा कमेटियों की सहायता करेंगी. सहायता के तह राज्य सरकार अपनी परिसेवा के लिए कोई शुल्क नहीं लेगी. आपातकालीन सेवा निःशुल्क दी जायेगी. स्थानीय निकाय भी अपनी परिसेवा निःशुल्क देंगे.

प्रति क्लब 50 हजार रुपये की मिलेगी वित्तीय सहायता

पूजा आयोजन के लिए बिजली 50 फीसदी डिस्काउंट रेट पर मिलेगी. इसके लिए संबंधित संस्थान अलग से अधिसूचना जारी करेंगे. प्रति क्लब 50 हजार रुपये की एकमुश्त वित्तीय सहायता दी जायेगी. प्रशासन/पुलिस सभी जरूरी सहायता पूजा कमेटियों को करेंगे.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें