विश्व में 700 मिलियन से अधिक लोग मानसिक संबंधी विकारों से पीड़ित

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

हर साल दस लाख से अधिक लोग इससे पीड़ित होकर आत्महत्या का रास्ता अपनाते हैं

कोलकाता : देश के विभिन्न राज्यों के अलावा विश्वभर में 10 अक्तूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाया गया. इस दिन लोगों में इस संबंध में जागरुकता फैलायी गयी.

समाज, देश, व्यक्तियों, और देश दुनिया की समग्र भलाई के लिए मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता फैलाना अति महत्वपूर्ण है, इसका मूल उद्देश्य अपने आसपास के लोगों को समझाने के साथ घुम-घुमकर लोगों में इसके प्रति समर्थन बढ़ाने के लिए उन्हें प्रेरित करना है. विश्व के अधिकांश शहरों व राज्यों में मानसिक स्वास्थ्य और मानसिक विकारों को अज्ञानता और उपेक्षा के कारण शारीरिक स्वास्थ्य के समान महत्व नहीं दया जाता है.

दुनिया में 7 बिलियन से ज्यादा की कुल आबादी में से 700 मिलियन से अधिक लोग मानसिक संबंधी विकारों से पीड़ित हैं. 1.3 बिलियन की आबादी वाले भारत में यह आबादी 200 मिलियन से अधिक हो सकती है.

हर साल दस लाख से अधिक लोग इससे पीड़ित होकर आत्महत्या का रास्ता अपनाते हैं. विकलांगता के साथ रहने वाले 6 प्रमुख कारणों में से 4 न्यूरोपैसिकियाट्रिक विकारों जैसे अवसाद, शराब-उपयोग विकार, सिज़ोफ्रेनिया और तनाव विकार इसके प्रमुख कारण हैं. यह माना गया है कि प्रत्येक चार में से एक परिवार में कम से कम एक सदस्य मानसिक विकार से पीड़ित हैं.

यह देखा गया है कि परिवार के सदस्य अक्सर मानसिक विकार वाले लोगों की प्राथमिक देखभाल करने वाले होते हैं, परिवार के सदस्यों पर मानसिक विकार के दबाव की सीमा का आकलन और परिमाण करना मुश्किल है. हालांकि, इससे परिवार के जीवन स्तर पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है.

स्वास्थ्य और सामाजिक दृष्टि से मानसिक बीमारियों से पीड़ित लोग भी दोनों मनोरोग संस्थानों के अंदर और बाहर मानवाधिकारों के उल्लंघन, परेशानी व भेदभाव के शिकार होते हैं. मानसिक और व्यवहार संबंधी विकार सबसे तेजी से विकास दर के साथ बड़ी बीमारी के रुप में सामने आ रहे हैं.

इसका मुख्य कारण आधुनिक जीवन के दबाव और संचार प्रौद्योगिकी का दुरुपयोग है, जो मुख्य रूप से हमें जोड़ने के लिए विकसित किया गया था. अब हमें यह और अधिक मुख्यधारा से अलग कर रहा है, जिससे हम में से अधिकांश लोग भावनात्मक रूप से असुरक्षित बन रहे हैं. अंतरा (मानसिक विकारों, शराब और नशीली दवाओं की लत से पीड़ित और गरीबों के लिए पुनर्वास केंद्र) के अध्यक्ष श्री कमल प्रकाश का कहना है कि : विश्व स्तर पर मानसिक व स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं की लागत विभिन्न देशों के जीएनपी के 4 से 6% के बीच कुछ भी हो सकती है.

खर्च और उत्पादकता के संदर्भ में इनका खर्च अरबों डॉलर में हैं, इसकी औसत वार्षिक लागत में चिकित्सा, दवा और विकलांगता की लागत शामिल हैं. हालांकि, उपचार की लागत अक्सर अनुपस्थिति के अभाव में पूरी तरह से ऑफसेट होती है और काम के दौरान उत्पादकता विलुप्त हो जाती है. इसलिए प्रबंधन समस्या को कम करने के लिए और आर्थिक महत्व निवारण और संवर्धन कार्यक्रमों में निवेश करने के लिए इसके महत्व पर प्रकाश डालते हैं.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें