कालीघाट मंदिर का होगा जीर्णोद्धार

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
कोलकाता. राज्य सरकार ने ऐतिहासिक कालीघाट मंदिर का जीर्णोद्धार करने का फैसला लिया है. इस संबंध में मंगलवार को राज्य सचिवालय नवान्न में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व में एक उच्चस्तरीय बैठक हुई. बैठक की समाप्ति के बाद मुख्यमंत्री ने बताया कि कालीघाट मंदिर हमारे लिए बेहद महत्वपूर्ण है.

हम लोगों ने दक्षिणेश्वर आैर तारकेश्वर मंदिर की तर्ज पर कालीघाट मंदिर का विकास करने का फैसला किया है. दक्षिणेश्वर में स्काईवाक तैयार किया गया है. तारापीठ डेवलेपमेंट अथॉरिटी तारापीठ मंदिर आैर शहर का विकास कर रहा है.

बक्रेश्वर में भी काम किया जा रहा है. फुरफुरा शरीफ का भी हम लोगों ने विकास किया है. 2011 में सत्ता में आने के बाद कालीघाट मंदिर के विकास के मुद्दे पर हम लोगों ने बैठक की थी. पर कोई खास काम नहीं हुआ. अब हम लोगों ने पूरे कालीघाट मंदिर परिसर का विकास करने का फैसला लिया है. सुश्री बनर्जी ने कहा कि कालीघाट मंदिर का विकास वर्तमान ढांचा को बनाये रखते हुए किया जायेगा. इसके लिए वहां से किसी का उच्छेद नहीं किया जायेगा. बल्कि सभी को एडजस्ट कर काम करेंगे. उसके लिए पहले सर्वे किया जायेगा.
निगम करेगा प्लान तैयार
हम लोगों ने कोलकाता नगर निगम निगम को डीपीआर (प्लान) तैयार करने की जिम्मेदारी दी है. निगम 31 अगस्त तक 3-4 प्लान तैयार करके देगा. प्लान मिलने के बाद फिर बैठक करेंगे आैर निगम द्वारा दिये गये प्लान में से किसी एक का चयन कर उसके अनुसार काम किया जायेगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे इलाके को सुंदर ढंग से सजाया-संवारा जायेगा. इस बात का ख्याल रखा जायेगा कि किसी को दिक्कत न हो. मंदिर में प्रवेश करने एवं बाहर निकलने के रास्ते को अच्छे से बनाया जायेगा. इस बात का विशेष ध्यान रखा जायेगा कि निर्माण कार्य से मंदिर का स्वरुप न बदल जाये. मंदिर के असली ढांचे को बनाये रखते हुए काम किया जायेगा. मंदिर परिसर के आसपास आैर भी कुछ जमीन है, उसे भी काम में लगाया जायेगा.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें