1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. bjp exposed rs 5000 crore paddy procurement scam in mamata banerjee tmc govt before seventh phase voting in bengal kailash vijayvargiya jyotipriya mallik news mtj

सातवें चरण की वोटिंग से पहले भाजपा ने ममता बनर्जी सरकार पर फोड़ा 5000 करोड़ की धान खरीद घोटाला का बम

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस पर बड़े भ्रष्टाचार का भाजपा ने लगाया आरोप
ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस पर बड़े भ्रष्टाचार का भाजपा ने लगाया आरोप
Prabhat Khabar

कोलकाता : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय महासचिव तथा बंगाल भाजपा के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 के सातवें चरण की वोटिंग से पहले ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस सरकार के धान खरीद में 5000 करोड़ रुपये के घोटाला का भंडाफोड़ करने का दावा किया. कैलाश विजयवर्गीय ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके इसके कई सबूत मीडिया के सामने पेश किये.

भाजपा नेता ने आरोप लगाया कि राज्य में किसानों से धान की खरीद में पिछले 5 वर्षों में करीब 5 हजार करोड़ रुपये का घोटाला हुआ है. श्री विजयवर्गीय ने इस संबंध में खाद्य मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक पर भी निशाना साधा. कहा कि केंद्र सरकार की ओर से धान की खरीद मूल्य के संबंध में सभी राज्यों को एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) भेजी जाती है.

इसी एमएसपी पर राज्य सरकारें किसानों से धान की खरीद करती हैं. लेकिन, सूचना का अधिकार के तहत ली गयी जानकारी में देखा जा रहा है कि बंगाल में एमएसपी पर कुछ ही किसानों से धान की खरीद की गयी. अधिकतर किसानों से दलालों ने कम कीमत पर धान की खरीद की. देखा गया है कि किसानों को नकद पैसे दिये गये, जबकि देने का नियम चेक से है.

उन्होंने कहा कि कितने किसानों से कितने धान की खरीद की गयी, इस संबंध में कोई रिकॉर्ड राज्य सरकार के पास नहीं है. श्री विजयवर्गीय ने कहा कि आरटीआइ का जवाब मिलने में देरी हुई. यहां आरटीआइ से जानकारी निकालना बेहद कठिन है. पश्चिम बंगाल देश में इकलौता राज्य है, जहां आरटीआइ का जवाब नहीं दिया जाता.

खाद्य मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक के बिजनेस पार्टनेर के नाम सार्वजनिक किये
खाद्य मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक के बिजनेस पार्टनेर के नाम सार्वजनिक किये
Prabhat Khabar

कैलाश विजयवर्गीय ने खाद्य मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक पर भी निशाना साधा. कहा कि पिछले तीन चुनावों में उनकी संपत्ति में जबर्दस्त इजाफा हुआ है. नोटबंदी के दौरान उनके घरवालों ने करोड़ों रुपये बैंक में जमा कराये. भाजपा नेता ने कहा कि बंगाल में भाजपा की सरकार बनने के बाद इसकी जांच करायी जायेगी.

साक्ष्यों के साथ भ्रष्टाचार का खुलासा करने का दावा करते हुए कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि ममता बनर्जी की सरकार ने धान खरीद में 5000 करोड़ रुपये का गबन किया है. इसके साथ ही आरोप लगाया है कि ममता बनर्जी के खाद्य मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक के बांग्लादेश में मकान हैं और उनके पास करोड़ों की संपत्ति है.

नोटबंदी के दौरान करोड़ों जमा कराने के सबूत दिये
नोटबंदी के दौरान करोड़ों जमा कराने के सबूत दिये
Prabhat Khabar

कौन हैं ज्योतिप्रिय मल्लिक, कितनी है उनकी संपत्ति

ज्योतिप्रिय मल्लिक बंगाल की ममता बनर्जी सरकार में खाद्य मंत्री हैं. वह उत्तर 24 परगना जिला के टीएमसी जिलाध्यक्ष भी हैं. कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि जितनी भी आनाज की खरीद हुई या जनवितरण प्रणाली के जरिये उन्हें बांटा गया, इसका सरकार के पास कोई रिकॉर्ड नहीं है.

श्री विजयवर्गीय ने कहा कि केंद्र सरकार बंगाल के किसानों को किसान सम्मान निधि की राशि देना चाहती थी, इसकी सूची मांगी गयी, लेकिन राज्य सकरार ने सूची अभी तक उपलब्ध नहीं करायी. बंगाल के पास इस तरह की कोई सूची नहीं है.

इसे धान खरीद में गड़बड़ी के सबूत बताया
इसे धान खरीद में गड़बड़ी के सबूत बताया
Prabhat Khabar

ऐसे बढ़ी खाद्य मंत्री की संपत्ति

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि बंगाल के खाद्य मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक की संपत्ति लाखों में थी, जो कुछ ही वर्षों में करोड़ों में पहुंच गयी. उन्होंने जब चुनाव लड़ना शुरू किया था, उनकी संपत्ति 5 लाख रुपये थी. वर्ष 2011 में 5 लाख रुपये बढ़कर 81 लाख, वर्ष 2016 में 1.52 करोड़ और वर्ष 2021 में 6 करोड़ 29 लाख हो गयी. साल्टलेक में उनका मकान है. बांग्लादेश में भी उनकी प्रॉपर्टी है. उनकी बेटी ने नोटबंदी के दौरान तीन करोड़ 37 लाख रुपये बैक में जमा कराये थे. उन्होंने अपनी आदमनी का जरिया ट्यूशन बताया था.

केंद्र ने गरीबों के लिए अनाज भेजे, टीएमसी ने बाजार में बेच दिये

भाजपा नेता ने आरोप लगाया कि केंद्र की मोदी सरकार ने जो आनाज गरीबों को निःशुल्क बांटने के लिए भेजे थे, उन्हें बाजार में बेच दिया गया. इसी कारण इस सरकार को चावल चोर सरकार कहा जाता है.

Posted By : Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें