1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. bengal vidhan sabha chunav 2021 latest news lalu yadav party rjd reddy to shocks mamata banerjee tmc before west bengal assembly election these seat fight alliance to left party avh

Bengal Chunav 2021 : ममता बनर्जी को झटका देने की तैयारी में Lalu Yadav की पार्टी RJD, वाममोर्चा और कांग्रेस से गठबंधन कर बंगाल के इन सीटों पर लड़ सकती है चुनाव

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Bengal news
Bengal news
Facebook

Bengal Chunav 2021 : बंगाल चुनाव से पहले ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस को बड़ा झटका लग सकता है. दरअसल, बिहार की विपक्षी पार्टी राजद अब वाममोर्चा के साथ मिलकर चुनाव लड़ने की तैयारी में लग गई है. बताया जा रहा है कि इसका एलान भी दो तीन दिनों के भीतर कर दिया जाएगा. बता दें कि बंगाल में पहले लालू यादव (Lalu yadav) की पार्टी ने टीएमसी (TMC) को समर्थन देने की घोषणा की थी, मगर बदलती परिस्थितियों के कारण अब राजद वाममोर्चा के साथ जा सकती है.

सूत्रों के मुताबिक बंगाल चुनाव में राजद ने सत्ताधारी टीएमसी से राज्य की छह सीटों की मांग की. हालांकि टीएमसी ने अभी तक राजद को इसपर कोई जवाब नहीं दिया है. माना जा रहा है कि इसी के बाद राजद नेता अब वाममोर्चा से गठबंधन की गुंजाइश तलाशने में लग गए हैं. इसी कड़ी में अब खबर आ रही है कि बंगाल में राजद कांग्रेस के साथ गठबंधन कर सकती है.

श्याम रजक और अभिषेक बनर्जी के बीच मुलाकात- बता दें कि राजद बंगाल चुनाव के प्रभारी श्याम रजक और अब्दुल बारी सिद्दकी बीते दिनोंं बंगाल आए थे, जहां पर उनकी मुलाकात युथ टीएमसी अध्यक्ष अभिषेक बनर्जी (Abhishek Banerjee) से भी मुलाकात हुई थी. इसी मुलाकात में राजद ने सीट का प्रस्ताव दिया था.

इन सीटों पर दावा- सूत्रों की मानें तो बंगाल में छह सीटों पर राजद चुनाव लड़ सकती है. राजद ने इसके लिए तैयारी भी कर ली है. आरजेडी बंगाल की राजधानी कोलकाता का बड़ा बाजार, आसनसोल जिले की रानीगंज, जमुडिय़ा एवं पंडेश्वर की सीटों पर दावा की है, वहीं चौबीस परगना में बाटपारा एवं मेदिनीपुर जिले की खडग़पुर सीट पर भी पार्टी चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है.

बिहार में हो चुका है प्रयोग- बता दें कि बिहार चुनाव में राजद, कांग्रेस और सीपीएम एकसाथ मिलकर चुनाव लड़ चुकी है, जिसका परिणाम बेहतर रहा. हालांकि बिहार में सीपीएम की काडर मजबूत नहीं है, जिसकी वजह से उन्हें एक सीट पर ही जीत मिली.

Posted By : Avinish kumar mishra

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें