1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. bengal election news bjp candidate from asansol accused of hiding movable property data

बढ़ सकती है आसनसोल उत्तर सीट से BJP कैंडिडेट कृष्णेंदु मुखर्जी की मुश्किलें, एफिडेविट में गलत जानकारी देने के आरोप में शिकायत दर्ज

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
 BJP उम्मीदवार कृष्णेंदु मुखर्जी
BJP उम्मीदवार कृष्णेंदु मुखर्जी
Twitter

आसनसोल: आसनसोल नॉर्थ विधानसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार कृष्णेंदु मुखर्जी पर नामांकन के दौरान जमा एफिडेविड में चल संपत्ति का आंकड़ा छिपाने का आरोप लगा कर नामांकन पर आपत्ति दर्ज करते हुए हीरापुर थाना क्षेत्र के न्यूटाउन बर्नपुर इलाके के निवासी रीबू बोस ने क्षेत्र के निर्वाचन अधिकारी (आरओ) को पत्र सौंपा. बोस ने यह भी आरोप लगाया कि मुखर्जी पर ने एफिडेविड में कुल 17 आपराधिक मामलों का जिक्र किया है, जिसमें कुछ मामलों में कलकात्ता उच्च न्यायालय ने उन्हें जिला से बाहर रहने के शर्त पर जमानत मिली हुई है.

सिर्फ अदालती कार्रवाई के दौरान ही जिला में प्रवेश करने की इजाजत है. इस आदेश के बावजूद वह व्यक्ति खुद उपस्थित होकर कैसे नामांकन दाखिल कर सकता है. आरओ ने उनकी शिकायत की प्रति रिसीव की है और कहा कि आरोपों का काउंटर एफिडेविड जमा दें. गुरुवार को स्कूटनी के दौरान तृणमूल नेताओं ने भी इस मुद्दे पर आरओ से मौखिक शिकायत की. आरओ ने उनलोगों को बताया कि कोई यदि एफिडेविड में गलत जानकारी देता है, इससे उसका नामांकन रद्द नहीं किया जा सकता है.

आरओ ने मुखर्जी के नामांकन को वैध करार दिया. कृष्णेंदु मुखर्जी ने कहा कि उन्होंने कोई जानकारी नहीं छिपायी है. तृणमूल द्वारा दुष्प्रचार किया जा रहा है. आयोग यदि कोई जवाब मांगता है, तो वे आयोग को अपना जवाब देंगे. तृणमूल राजनीतिक लड़ाई को व्यक्तिगत लेकर जा रही है. ऐसे में हमलोग भी चुप नहीं बैठेंगे. रीबू बोस ने शिकायत में लिखा कि चुनाव आयोग की वेबसाइट पर भाजपा उम्मीदवार कृष्णेंदु मुखर्जी का एफिडेविड देखने के बाद पाया कि उन्होंने अपना और अपनी पत्नी की चल संपत्ति की जानकारी छिपायी है. मुखर्जी और उनकी पत्नी दो-दो कंपनी में निदेशक हैं. इसकी जानकारी एफिडेविड में कहीं नहीं है.

उन्होंने इन कंपनियों की पूरी जानकारी आरओ को मुहैया करायी. इसके साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि श्री मुखर्जी ने कुल 17 आपराधिक मामलों का जिक्र किया है, जिसमें कुछ मामलों में अदालत से उन्हें सशर्त जमानत मिली है, जिसके अनुसार उन्हें जिला से बाहर रहना पड़ेगा. सिर्फ अदालती कार्रवाई में भाग लेने के लिए ही वे जिले में प्रवेश कर सकते हैं.

बोस ने इन मामलों की विस्तृत जानकारी देते हुए कलकात्ता उच्च न्ययालय की आदेश की प्रति भी मुहैया करायी है. बोस का आरोप यदि सही है तो मुखर्जी के लिए समस्या बढ़ सकती है. भाजपा के जिला संयोजक शिवराम बर्मन ने बताया कि सारा आरोप गलत है. उम्मीदवार मुखर्जी पर जिला में प्रवेश पर रोक समाप्त हो गया है. आरओ ने भी उनके नामांकन को वैध करार दिया है.

Posted by- Aditi Singh

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें