1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. bengal election latest news bjp reaches banarhat in support of candidate birsa munda sidhu kanu swabhiman yatra

Bengal Election 2021: भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में बानरहाट पहुंची बिरसा मुंडा-सिद्धू कानू स्वाभिमान यात्रा

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में बानरहाट पहुंची बिरसा मुंडा, सिद्धू कानू स्वाभिमान यात्रा’
भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में बानरहाट पहुंची बिरसा मुंडा, सिद्धू कानू स्वाभिमान यात्रा’
Prabhat Khabar

बिन्नागुड़ी: धूपगुड़ी व नागराकाटा विधानसभा क्षेत्र के भाजपा प्रत्याशी कृष्णपद राय व पूना भेंगरा के समर्थन में भाजपा के कई कद्दावर नेता ‘बिरसा मुंडा सिद्धू कानू स्वाभिमान यात्रा’ को लेकर बानरहाट व चामूर्ची पहुंचे. इस दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद जुएल उरांव, ऑल इंडिया एसटी मोर्चा के सभापति सांसद समीर उरांव, स्थानीय सांसद जॉन बारला, मालदा के सांसद खगेन मुर्मू, झारखंड एसटी मोर्चा के सभापति शिव शंकर उरांव, भाजपा प्रत्याशी पूना भेंगरा, विष्णुपद रॉय, जलपाईगुड़ी जिला एसटी मोर्चा के सभापति घूरन उरांव सहित कई नेतागण उपस्थित थे. बिरसा मुंडा सिद्धू कानू स्वाभिमान यात्रा को लेकर भाजपा समर्थकों में काफी उत्साह देखा गया.

भाजपा समर्थकों व कार्यकर्ताओं द्वारा स्वाभिमान यात्रा में उपस्थित भाजपा नेताओं का गर्मजोशी से स्वागत भी किया गया. पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद जुएल उरांव ने बताया, अनुसूचित जनजाति मोर्चा की ओर से बिरसा मुंडा सिद्धू कानू स्वाभिमान यात्रा निकाली गयी है. मदारीहाट विधानसभा क्षेत्र के भाजपा प्रत्याशी मनोज तिग्गा के समर्थन में बुधवार को रैली करने के पश्चात बानरहाट व चामूर्ची में भाजपा के प्रत्याशियों के समर्थन में रैली और पथ सभा की गयी.

पूर्व केंद्रीय मंत्री, सांसद व डिफेंस कमेटी के चेयरमैन जुएल उरांव में बताया प्रतिदिन दो से तीन किलोमीटर तक यह यात्रा भाजपा प्रत्याशियों के समर्थन में केंद्र सरकार की प्रत्येक योजनाओं की जानकारी लोगों तक पहुंचाने के लिए की जा रही है. उन्होंने बताया, भाजपा के सरकार में आने के पश्चात सबसे पहले जनजाति मंत्रालय बनाया गया. जनजातियों के विकास के लिए कई योजनाएं भी शुरू की गयीं.

इससे पहले कांग्रेस व अन्य दलों की सरकारों ने जनजाति और चाय बागान के विषय पर कुछ भी नहीं किया. जनजाति मंत्रालय में पहले अटल जी की सरकार में 800 करोड़ रुपये आवंटित किये गये थे, जो अभी बढ़ा कर आठ हजार करोड़ का बजट नरेंद्र मोदी की सरकार की ओर से रखा गया है. आदिवासी जनजातियों को कम ब्याज में लोन मुहैया करा कर स्वरोजगार का प्रकल्प भी शुरू किया गया है.

जनजाति के ऊपर वर्तमान केंद्र सरकार काफी कार्य कर रही है. उन्होंने बताया वर्तमान मोदी सरकार ने बीस हजार जनसंख्या वाले आदिवासी क्षेत्र में शिक्षा के प्रचार पसार के लिए एकलव्य आवासीय विद्यालय की भी स्थापना का प्रकल्प शुरू किया है. इससे आदिवासी व जनजाति क्षेत्र में शिक्षा के क्षेत्र में विकास होगा.

उन्होंने बताया, शिक्षा से ही समाज आगे बढ़ा सकता है. वही मोदी सरकार जन धन योजना, उज्जवला योजना, सड़क निर्माण, प्रधानमंत्री आवास योजना जैसे कई प्रकल्प की शुरुआत करके आम लोगों तक इसकी सेवा दे रही है, लेकिन राज्य सरकार के कई योजनाओं को लागू नहीं करने से प्रदेश के लोग कई योजनाओं से वंचित है.

उन्होंने बताया, चाय बगान में रहनेवाले श्रमिक व उनके आश्रितों के विकास के लिए एक हज़ार करोड़ के बजट में भी आवंटन किया गया है. आने वाले दिनों में इन सभी विकासमूलक कार्य सरकार बनते ही प्रदेश में बिना भेदभाव के किये जायेंगे. उन्होंने कहा, भाजपा के संकल्प पत्र में बंगाल के विकास के लिए और भी कई महत्वपूर्ण योजनाओं को शामिल किया गया है. इसमें महिलाओं को व युवतियों को विशेष महत्व दिया गया है. उन्होंने बताया, प्रदेश में भाजपा सरकार बनते ही संकल्प पत्र की सभी घोषणाओं को लागू करने के साथ-साथ चाय श्रमिकों की न्यूनतम मजदूरी, जमीन का पट्टा एक महीने में लागू किया जायेगा.

Posted By: Aditi Singh

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें