1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. bengal election 2021 panchayat pradhan impressed voters by becoming booth agent congress alleges and report to election commission in malda bengal

मालदा में बूथ एजेंट बनकर पंचायत प्रधान ने वोटर्स को किया प्रभावित, संयुक्त मोर्चा का आरोप

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
मालदा में बूथ एजेंट बनकर पंचायत प्रधान ने वोटर्स को किया प्रभावित, संयुक्त मोर्चा ने लगाया आरोप
मालदा में बूथ एजेंट बनकर पंचायत प्रधान ने वोटर्स को किया प्रभावित, संयुक्त मोर्चा ने लगाया आरोप
prabhat khabar

मालदा (कौशिक दे) : मालदा की 6 सीटों पर सातवें चरण में वोटिंग हो रही है. वोटिंग के बीच आरोप सामने आयी कि बूथ एजेंट के रूप में खुद टीएमसी पंचायत प्रधान बैठी हैं और मतदाताओं को प्रभावित कर रही हैं. इसके बाद ही इलाके में तनाव का माहौल है. जानकारी के मुताबिक मालदा उत्तर लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत कुमारगंज हाई स्कूल के 148 नंबर बूथ पर रतुआ 2 नंबर ब्लाॅक के श्रीरामपुर की पंचायत प्रधान सेरिना बीबी को बूथ एजेंट की जगह बैठा हुआ देखा गया.

टीएमसी के खिलाफ संयुक्त मोर्चा के कांग्रेस कैंडिडेट अलबैरूनी जुल्करनैन ने इस घटना को लेकर रतुआ विधानसभा क्षेत्र के प्रशासन के पास शिकायत दर्ज करायी है. यहां तक ​कि संयुक्त मोर्चा के कांग्रेस उम्मीदवार ने बूथ के पीठासीन अधिकारी की भूमिका पर भी असंतोष व्यक्त किया है. इस घटना को लेकर जब सेरिना बीबी से पूछा गया तब उन्होंने कहा, पार्टी के कहने पर मैं एक पोलिंग एजेंट के रूप में काम कर रही हूं.

सेरिना बीबी ने कहा, यहां गलतफहमी का कोई सवाल ही नहीं है. यदि नियमों का उल्लंघन किया होता तो मुझे पीठासीन अधिकारी या प्रशासन द्वारा यहां बैठने के लिए रोका जाता. मगर किसी ने मुझे रोका नहीं और कोई सवाल भी नहीं पूछा. वहीं, मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए मेरे खिलाफ लगाए गए आरोप पूरी तरह से निराधार हैं. वास्तव में विपक्ष का यहां कोई स्थान नहीं है. वो ऐसी भ्रामक बातें फैलाकर समस्याएं पैदा करना चाहती हैं क्योंकि उनके पास कोई एजेंट नहीं है.

वहीं मालतीपुर विधानसभा सीट से कांग्रेस के कैंडिडेट अलबैरूनी जुल्करनैन ने तंज कसते हुए कहा, उन्हें समझ में नहीं आया आखिर पंचायत प्रमुख को पोलिंग एजेंट की नौकरी कैसे मिली? बूथों पर बैठकर मतदाताओं को प्रभावित करने को लेकर प्रशासन को शिकायत की जा चुकी है. बूथ के एक पीठासीन अधिकारी ने कहा, मुझे पंचायत की मुखिया होने के बारे में कुछ भी पता नहीं था.

पीठासीन अधिकारी ने कहा, सेरिना बीबी के गले में पोलिंग एजेंट का कार्ड देखकर ही बूथ पर बैठने की इजाजत दी गयी थी. बाद में पता चला कि वह एक जनप्रतिनिधि है. जैसे ही इसका पता चला मैंने, प्रशासन को मामले की जानकारी दे दी.बता दें कि सेरिना बीबी पंचायत प्रधान है जबकि उनका पति मोहब्बत अली इलाके में टीएमसी के कद्दावर नेता के रूप में परिचित है. सेरिना बीबी के बूथ पर एजेंट के तौर पर बैठने को लेकर संयुक्त मोर्चा ने आरोप लगाया है. इसके बाद इस घटना की शिकायत चुनाव आयोग में दर्ज करायी गयी है.

Posted by : Babita Mali

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें