1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. bengal election 2021 bjp candidate locket chatterjee was angry at the death of the 83 year old woman said women of bengal will reply to mamta banerjee on result day

Bengal Chunav 2021: 85 वर्षीय महिला की मौत पर भड़कीं लाॅकेट चटर्जी, कहा - दो मई को महिलाएं देगी दीदी को जवाब

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
83 वर्षीय महिला की मौत पर भड़कीं लाॅकेट ​चटर्जी
83 वर्षीय महिला की मौत पर भड़कीं लाॅकेट ​चटर्जी
social media

Bengal Chunav 2021: बंगाल विधानसभा चुनाव के दूसरे फेज के चुनाव से पहले बंगाल की राजनीति में उथल- पुथल मच गयी है. निमता में 85 वषीर्या शोभा मजूमदार की मौत और खुद पर जहरीले रंग फेंकने को लेकर बीजेपी कैंडिडेट व सांसद लाॅकेट चटर्जी ने टीएमसी सुप्रीमो और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जमकर हमला बोला है. लाॅकेट चटर्जी ने संवाददाता सम्मेलन कर कहा 83 वर्षीया वृद्धा की मौत के बाद ममता बनर्जी को मुख्यमंत्री के पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं हैं.

बंगाल की महिलाएं इसका जवाब 2 मई को देगी. संवाददाता सम्मेलन कर लाॅकेट चटर्जी ने कहा चुनाव होने के साथ ही खूनी राजनीति का खेल शुरू हो गया है. पिछले 10 सालों से महिलाओं पर अत्याचार हो रहे हैं. उन्होंने ममता बनर्जी से सवाल पूछा कि और कितनी बंगाल की महिलाओं की आहुति उन्हें चाहिए? टीएमसी के गुंडे महिलाओं पर अत्याचार कर रहे हैं. राज्य पुलिस वृद्धा की मौत पर किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी.

मामले में एक टीएमसी समर्थक को पकड़ा भी गया था जिसे बाद में जमानत मिल गयी. अगर आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद घटना घटती तब चुनाव आयोग इस मामले में सही कार्रवाई कर पाते. उन्होंने कहा बीजेपी की सरकार बनती है तो इस मामले की गंभीरता से जांच की जायेगी और दोषियों को गिरफ्तार किया जायेगा. वहीं खुद पर जहरीला रंग डाले जाने की घटना पर भी लाॅकेट चटर्जी ने टीएमसी पर कटाक्ष किया.

लाॅकेट चटर्जी ने कहा मेरे ऊपर पीछे से जहरीला रंग फेंकना चोर और डकैतों का काम है. टीएमसी के शासन में एक महिला पर जहरीले रंग फेंके जा रहे हैं, ये बहुत ही निंदाजनक घटना है. आंख से आंख मिलाकर बात करने में डर रहे हैं. मुझ पर जहरीला रंग फेंककर मुझे रोकने चाहते हैं लेकिन मैं रूकने वाली नहीं हूं. उन्होंने कहा 2011 में ममता बनर्जी को मुख्यमंत्री बनाया गया था ताकि बंगाल में महिलाएं सुरक्षित रह सकें लेकिन पिछले 10 सालों में बंगाल में महिलाओं पर अत्याचार बढ़ गयी है. अब बंगाल की महिलाएं रास्ते पर उतर चुकी है. इस घटना के खिलाफ महिलाओं का क्या जवाब है, वो 2 मई को ही पता चल सकेगा.

Posted by : Babita Mali

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें