1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. bengal corona news such an atmosphere of corona infection even the family did not come forward for fear the dead body was lying for 12 hours

Coronavirus का खौफ ऐसा ! हावड़ा में 12 घंटे तक पड़ा रहा शव, परिजन भी नहीं गए अंतिम संस्कार करने

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Coronavirus Deaths
Coronavirus Deaths
Photo: PTI

हावड़ा: कोरोना संक्रमण से एक व्यक्ति की मौत उनके घर पर हो गयी, लेकिन परिजनों में कोरोना संक्रमण का डर इतना फैल गया कि 12 घंटे तक शव पड़ा रहा. मामला हावड़ा जिले के शिवपुर विधानसभा अंतर्गत षष्ठीतला इलाके की है. मृतक का नाम गोपाल चक्रवर्ती (60) है. लगभग 12 घंटे बाद हावड़ा नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग के कार्यकर्ता आये और शव को अंतिम संस्कार के लिए ले गये.

गोपाल चक्रवर्ती कई महीनों से किडनी की बीमारी से पीड़ित थे. गोपाल चक्रवर्ती के बेटे तमाल चक्रवर्ती का कहना है कि उनके पिता की कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आयी थी. इसके बाद उनकी शारीरिक स्थिति बिगड़ने लगी. अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने उन्हें वेंटिलेशन पर रखने की सलाह दी, लेकिन कई प्रयासों के बाद भी किसी अस्पताल में बेड नहीं मिला. घर पर ही इलाज शुरू कर ऑक्सीजन दी जाने लगी, लेकिन मंगलवार को देर रात घर पर गोपाल की मृत्यु हो गयी.

परिजनों का आरोप है कि हावड़ा नगर निगम और जगाछा थाना को बार-बार फोन करने पर भी शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाने की व्यवस्था नहीं की गयी. इस कारण तकरीबन 12 घंटे तक शव घर पर ही पड़ा रहा. इसके बाद बुधवार दोपहर करीब 12 बजे शव को ले जाने के लिए निगम की शववाही गाड़ी पहुंची. वहीं नगर निगम सूत्रों के मुताबिक, मृत्यु प्रमाण पत्र और कोविड रिपोर्ट मिलने के बाद ही शववाही गाड़ी भेजी जाती है. वहीं गाड़ियों की संख्या भी कम होने की वजह से थोड़ा समय लगता है. उल्लेखनीय है कि गत कुछ दिन पहले बेंटरा थाना अंतर्गत कदमतला इलाके में भी एक कोरोना मृतक का शव करीब सात घंटे उसके घर में पड़ा था.

कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों की वजह से दिल दहला देनेवाले मंजर सामने आ रहे हैं. हुगली के आरामबाग सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल परिसर में खड़ी एंबुलेंस में कोरोना मरीज ने दम तोड़ दिया. इसके बाद उसके परिजनों ने हंगामा किया. घटना की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और स्थिति संभाली. पता चला है कि खानाकुल के जयरामपुर के निवासी तारापद चक्रवर्ती कोरोना पॉजिटिव थे. उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने पर एंबुलेंस से आरामबाग सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल में लाया गया था. करीब डेढ़ घंटे तक अस्पताल परिसर में एंबुलेंस खड़ी रही और समय रहते उपचार नहीं होने से उसकी सांस टूट गयी. परिजन, स्वास्थ्यकर्मियों से भर्ती की गुहार लगाते रहे, पर किसी ने नहीं सुनी. घटना के बाद से मरीज के परिजनों का गुस्सा अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ फूटा. पुलिस ने मौके पर पहुंच कर हस्तक्षेप किया, तो स्थिति नियंत्रित हुई.

Posted By : Aditi Singh

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें