1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. varanasi
  5. the promising students of bhu will get the help of teach for bhu nrj

Varanasi News: बीएचयू के होनहार स्टूडेंट्स को मिलेगी 'TEACH FOR BHU' की मदद, जानें योजना का लाभ

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के इस ट्वीट से बीएचयू के छात्रों में भी खुशी है. इस योजना का मुख्य उद्देश्य ऐसे चयनित छात्रों को अवसर प्रदान करना है, जो अपनी थीसिस जमा करने के बाद के समय का सकारात्मक प्रयोग करना चाहते हैं. ये फेलोशिप 12 महीने के लिए होगी.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Varanasi
Updated Date
BHU
BHU
File Photo

Varanasi News: बनारस के काशी हिंदू विश्वविद्यालय ने अपने छात्रों के विकास एवं कल्याण के लिए एक अनूठी पहल की शुरुआत की गई है. पीएचडी छात्रों के लिए “TEACH FOR BHU” नामक विशेष योजना की शुरू की गई है. इससे इन छात्रों को स्वयं को भविष्य के लिए तैयार करने में मदद मिलेगी.

केंद्रीय शिक्षा मंत्री का ट्वीट

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने किया ट्वीट.
केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने किया ट्वीट.
Social Media

इस योजना की तारीफ केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी की है. इसकी सराहना करते हुए धर्मेंद्र प्रधान ने ट्वीट किया है. ट्वीट में लिखा है, 'छात्रों के उत्साहवर्द्धन के लिए काशी हिंदू विश्वविद्यालय के इस पहल का समर्थन करता हूं. इस योजना के तहत ऐसे छात्र जिन्होंने अपनी पीएचडी थीसिस जमा कर दी है, उन्हें काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में 12 महीने की “TEACH FOR BHU” फेलोशिप के अंतर्गत पढ़ाने का अवसर मिलेगा. चयनित छात्रों को इन 12 महीनों के दौरान विश्वविद्यालय में, संबद्ध महाविद्यालयों अथवा विद्यालयों, नज़दीकी ऐसे स्कूलों जहां वंचित वर्गों के बच्चे पढ़ने जाते हैं, में पढ़ाने का मौका मिलेगा.'

फेलोशिप होगी 12 महीने की

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के इस ट्वीट से बीएचयू के छात्रों में भी खुशी है. इस योजना का मुख्य उद्देश्य ऐसे चयनित छात्रों को अवसर प्रदान करना है, जो अपनी थीसिस जमा करने के बाद के समय का सकारात्मक प्रयोग करना चाहते हैं. ये फेलोशिप 12 महीने के लिए होगी. फेलोशिप के दौरान शिक्षण गतिविधियों में शामिल होने से छात्रों को अपनी नेतृत्व क्षमता, लोक प्रबंधन तथा परियोजना प्रबंधन के अपने कौशल को और बेहतर करने का मौका मिलेगा, जो उन्हे आमतौर पर नहीं मिल पाता. जिन छात्रों ने पीएडी में प्रवेश की तिथि के 6 वर्ष के भीतर (पंजीकरण की तिथि नहीं) अपनी थीसिस जमा कर दी है, वे इस फेलोशिप के लिए आवेदन कर सकते हैं. विद्यार्थी अपनी थीसिस जमा करने या उसकी संभावित तारीख के 6 महीने पहले आवेदन कर सकते हैं.

फेलोशिप में कितनी मिलेगी राशि?

चयनित विद्यार्थियों को फेलोशिप की अवधि में 40,000 रुपये प्रतिमाह तथा 6000 रुपये एचआरए दिया जाएगा. बीएचयू का कहना है कि इससे पीएचडी के छात्रों को स्वयं को भविष्य के लिए तैयार करने में मदद मिलेगी. छात्रों को इन 12 महीनों के दौरान विश्वविद्यालय में, संबद्ध महाविद्यालयों या विद्यालयों, नजदीकी ऐसे स्कूलों जहां वंचित वर्गों के बच्चे पढ़ने जाते हैं, में पढ़ाने का मौका मिलेगा. गौरतलब है कि भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय द्वारा काशी हिन्दू विश्वविद्यालय को इंस्टिट्यूशन ऑफ एमिनेंस का दर्जा प्राप्त है.

रिपोर्ट : विपिन सिंह

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें