1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. varanasi
  5. pharmacy shop opened without permission head of cardiology department sent notice to shopkeeper acy

Varanasi News: बिना अनुमति लिए खोली फॉर्मेसी की दुकान, अब कॉर्डियोलॉजी डिपार्टमेंट के हेड ने भेजी नोटिस

कॉर्डियोलॉजी डिपार्टमेंट के कैथ लैब के नजदीक बीएचयू अस्पताल द्वारा अमृत फार्मेसी को बिना विभागाध्यक्ष से पूछे दुकान एलॉट करने को लेकर डॉ ओमशंकर ने नोटिस भेजते हुए 72 घंटे का समय स्थान को खाली करने का दिया है, क्योंकि विभाग के पास की जगह विभागाध्यक्ष के अधीन होती है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Varanasi
Updated Date
बिना अनुमति के खोली फॉर्मेसी की दुकान, अब कॉर्डियोलॉजी डिपार्टमेंट के हेड ने भेजी नोटिस
बिना अनुमति के खोली फॉर्मेसी की दुकान, अब कॉर्डियोलॉजी डिपार्टमेंट के हेड ने भेजी नोटिस
प्रभात खबर

Varanasi News: काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के कार्डियोलॉजी डिपार्टमेंट के कैथ लैब एरिया में दवा फार्मेसी की दुकान बिना जानकारी के खोले जाने के बाद एक्शन लेते हुए कार्डियोलॉजी डिपार्टमेंट के हेड डॉ ओमशंकर द्वारा 72 घंटे में दुकान खाली करने का नोटिस जारी किया गया है. हेड का कहना है कि अस्पताल प्रशासन को कोई अधिकार नहीं है कि वे विभागाध्यक्ष से बिना पूछे विभाग के स्थान पर किसी को भी दुकान खोलने की परमिशन दे सके. यह ग़लत है. यदि उसे देना है तो या तो वो विभागाध्यक्ष से बात करे या अपने क्षेत्र में उसे अनुमति दे.

कॉर्डियोलॉजी डिपार्टमेंट के कैथ लैब के नजदीक बीएचयू अस्पताल द्वारा अमृत फार्मेसी को बिना विभागाध्यक्ष से पूछे दुकान एलॉट करने को लेकर डॉ ओमशंकर ने नोटिस भेजते हुए 72 घंटे का समय स्थान को खाली करने का दिया है, क्योंकि विभाग के पास की जगह विभागाध्यक्ष के अधीन होती है. डॉ. ओमशंकर ने कहा कि पिछले विभागाध्यक्ष के समय में बिना इस नियम की जानकारी दिए अस्पताल प्रशासन ने अमृत फार्मा को एक दुकान कैथ लैब के पास आवंटित की थी, जो कि सरासर गलत है. ऐसे में उन्हें 72 घंटे में यह स्थान खाली करने का समय दिया गया है.

डॉ. ओमशंकर ने कहा कि यहां दवा की दुकानें गरीब मरीजों की सुविधा के लिए खोली गई है. मगर अमृत फार्मा की लगातार शिकायत आ रही है कि वे बाज़ार से भी महंगी दवाएं यहां बेच रहे हैं. बीएचयू अस्पताल में दो दवा की दुकाने हैं. एक उमंग और एक अमृत फार्मा, दोनों की स्थापना सिर्फ इसलिए की गयी थी कि बीएचयू आने वाले गरीब मरीजों को सस्ती दवाएं मिल सकेंगी, मगर ऐसा काफ़ी समय से नहीं हो रहा है. उसके बाद बिना पूर्व एचओडी के संज्ञान में लिए यहां कैथ लैब में एक जगह आवंटित की गयी, जो कि पूरी तरह से गलत है. ऐसे में मैंने नोटिस भेजी है, जिसका जवाब 72 घंटे में चाहिए और दुकान खाली चाहिए. डॉ. ओमशंकर ने कहा कि यदि ऐसा नहीं होता है तो हम अग्रिम कार्रवाई के लिए विवश होंगे.

रिपोर्ट- विपिन सिंह, वाराणसी

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें