1. home Home
  2. state
  3. up
  4. varanasi
  5. navratri 2021 latest news worship of maa chandraghata and kushmanda today banaras avi

नवरात्रि 2021 : मां चंद्रघटा और कुष्मांडा की पूजा आज, काशी में भक्तों की भारी भीड़

मान्यता है कि जब असुरों के बढ़ते प्रभाव से देवता त्रस्त हो गए तो असुरों का नाश करने के लिए देवी माँ चन्द्र घंटा के रूप में अवतरित हुई और असुरों का संहार कर माँ ने देवताओ के संकट को दूर किया.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Varanasi
Updated Date
मां चंद्रघटा पूजा आज
मां चंद्रघटा पूजा आज
प्रभात खबर

शारदीय नवरात्र के तीसरे दिन माँ चन्द्र घंटा के दर्शन पूजन की मान्यता है. काशी में माता रानी चंद्रघंटा के दर्शन करने से सभी कष्ट दूर हो जाते है. माँ चंद्रघंटा का मन्दिर काशी में चौक पर स्थित हैं. यहाँ माता के दर्शनों को आने वाले भक्तों की भीड़ नवरात्र में बहुत देखने को मिलती है. माता के अलौकिक स्वरूप का दर्शन करने के लिए भक्त माला, चुनरी, नारियल लेकर लंबी- लंबी कतारों में खड़े रहते हैं.

काशी के चौक में माता चन्द्रघण्टा अपने दिव्य स्वरूप के साथ विराजती है. माँ के इस स्वरूप में गले में चन्द्रमा विराजती है. माता के घण्टे की आवाज सुनकर असुरों में भय का माहौल व्याप्त हो जाता हैं. ऐसी मान्यता है की जब असुरों के बढ़ते प्रभाव से देवता त्रस्त हो गए तो असुरो का नाश करने के लिए देवी माँ चन्द्र घंटा के रूप में अवतरित हुई ,और असुरो का संहार कर माँ ने देवताओ के संकट को दूर दिया.

आज यहाँ नवरात्रि के तीसरे दिन भक्तों की भारी भीड़ को देखकर माता के प्रति अटूट श्रद्धा का अंदाजा लगाया जा सकता है. यहां सभी भक्त अपनी मनोकामना को लेकर आये हैं. माता को चढ़ावा स्वरूप यहाँ लाल चुनरी, फूल माला नारियल चढ़ाकर अपने कष्टों को दूर करने की कामना करते है.

तृतिया और चतुर्थी एक ही दिन- पंचांग की मानें तो 8 अक्टूबर, शुक्रवार को तृतीया तिथि का आरंभ प्रात: 10 बजकर 50 मिनट पर हुआ. 9 अक्टूबर, शनिवार को प्रात: 7 बजकर 51 मिनट पर तृतीया तिथि का समापन होगा. इसके बाद चतुर्थी की तिथि प्रारंभ होगी. इस दिन मां चंद्रघण्टा और कूष्माण्डा देवी की पूजा की जाएगी.

इनपुट : विपिन कुमार

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें