1. home Home
  2. state
  3. up
  4. varanasi
  5. navratri 2021 know about navratra kalash sthaplana shubh muhurat and all details abk

Navratri 2021: 7 अक्टूबर से नवरात्र शुरू, यहां पढ़ें कैसे करें कलश स्थापना, शुभ मुहूर्त समेत हर जानकारी

वाराणासी में माता दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों के मंदिर हैं. जहां इनकी पूजा के लिए भक्तों की भीड़ लगती है. माता भगवती के कलश स्थापना और पूजन महत्व को लेकर हमने काशी के धर्माचार्य और ज्योतिष पंडित पवन त्रिपाठी से बातचीत की.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Navratri 2021: 7 अक्टूबर से नवरात्र शुरू, यहां पढ़ें कैसे करें कलश स्थापना, शुभ मुहूर्त
Navratri 2021: 7 अक्टूबर से नवरात्र शुरू, यहां पढ़ें कैसे करें कलश स्थापना, शुभ मुहूर्त
प्रभात खबर

Varanasi Navratri 2021: हिंदू धर्म के सबसे पवित्र त्योहार नवरात्रि का आरंभ 7 अक्टूबर से हो रहा है. नवरात्रि में अलग-अलग तिथि में मां दुर्गा के अलग-अलग रूप की पूजा की जाती है. नवरात्रि पर्व को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में देखा जाता है. वाराणसी में माता दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों के मंदिर हैं. जहां इनकी पूजा के लिए भक्तों की भीड़ लगती है. माता भगवती के कलश स्थापना और पूजन महत्व को लेकर हमने काशी के धर्माचार्य और ज्योतिष पंडित पवन त्रिपाठी से बातचीत की.

काशी के धर्माचार्य पंडित पवन त्रिपाठी के मुताबिक नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना करते समय शुभ मुहूर्त का खास ख्याल रखना चाहिए. 7 अक्टूबर को घटस्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजकर 17 मिनट से सुबह 7 बजकर 7 मिनट तक है. इसी समय घटस्थापना करने से नवरात्रि फलदायी होगी. कलश स्थापना के लिए अभिजीत मुहूर्त सबसे उत्तम माना गया है.

काशी के धर्माचार्य पंडित पवन त्रिपाठी
काशी के धर्माचार्य पंडित पवन त्रिपाठी
प्रभात खबर

कलश स्थापना के लिए कई सामग्री की जरूरत पड़ती है. इसमें 7 तरह के अनाज, चौड़े मुंह वाला मिट्टी का एक बर्तन, पवित्र स्थान से लाई गई मिट्टी, कलश, गंगाजल, आम या अशोक के पत्ते, सुपारी, जटा वाला नारियल, अक्षत, लाल वस्त्र और पुष्प की जरुरत होती है.

इस बार नवरात्र तिथि 9 दिन के बजाय कुल 8 दिन की पड़ रही हैं, जो शास्त्र के अनुसार सही नहीं माना जाता है. इस बारे में पंडित पवन त्रिपाठी ने बताया कि शास्त्र के अनुसार किसी भी चीज में वृद्धि और कमी दोनों ही उचित नहीं माना जाता है. अगर 8 दिन के बजाय यह 9 दिन का भी नवरात्र तिथि बढ़ता तो भी उचित नहीं माना जाता. इस बार 8 दिन का नवरात्र तिथि होने की वजह से दो तिथियों का समायोजन एक ही दिन होने पर ये सही संकेत नही माना जाएगा. इस माहौल में अराजकता, अपराध, हत्या, उत्पात की ज्यादा अधिकता देखने को मिलेगी. मगर हमें इन सारी बातों पर से ध्यान हटाकर सिर्फ अपने उद्देश्य यानी कि मां भगवती की पूजा-आराधना करनी चाहिए. हमें अपने घर, आस-पड़ोस की महिलाओं का मान-सम्मान करना चाहिए. उनमें भी दुर्गा का ही रूप है.

पंडित पवन त्रिपाठी के मुताबिक शुक्रवार के दिन देवी का गमन हो रहा है. उस दिन सुव्रिष्टि का योग बन रहा है. देवी का हाथी पर गमन होने की वजह से फसलों, धन-धान्य की बरसात होगी. सामाजिक जनजीवन में अपराध ,उत्पात और बीमारियों में वृद्धि के संकेत मिल रहे हैं, जो अच्छा नहीं माना जाएगा. इसके लिए नवरात्रि में भगवती मां दुर्गा को गुड़हल के फूल के साथ बिल्व पत्र (बेल पत्र) को लाल चंदन के साथ लगाकर अर्पित करने पर बहुत ही प्रसन्न होती हैं. इससे 10 जन्मों के पाप से मुक्ति मिल जाती है.

शारदीय नवरात्र के रूप में हम सभी को नाकरात्मक ऊर्जा का त्याग कर साकारात्मक ऊर्जा का संचयन अगले 6 महीनों के लिए करना चाहिए. जिससे चैत्र नवरात्र में हम नई सकारात्मक ऊर्जा के लिए भगवती दुर्गा के स्वागत के लिए तैयार रहें. अपने सारे दुर्गुणों को नष्ट कर सद्गुणों को अपने अंदर आत्मसात करें. हमारे देश की परंपरा में नारी के सम्मान की बात कही गई है. जहां नारी की पूजा होती है, वहीं देवताओं का भी वास होता है. इस हेतु नवरात्र के अष्टमी और नवमी के दिन कुंवारी कन्याओं को भोजन करा कर उनकी पूजा करने का भी प्रवाधान है.

(रिपोर्ट:- विपिन सिंह, वाराणसी)

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें