1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. varanasi
  5. ganga getting polluted by dirty water of sewage all the cleanliness campaigns of government failed slt

सीवेज के गंदे पानी से प्रदूषित हो रही मां गंगा, सरकार की ओर सफाई के सभी अभियान फेल

वाराणसी में गंगा का पानी सीवेज के गंदे पानी की वजह से दिनों-दिन दूषित होता जा रहा है. सरकार की ओर से गंगा में सफाई अभियान भी चलाया जा रहा है, बावजूद इसके कोई रिजल्ट देखने को नहीं मिल रहा है. जिससे आम आदमी परेशान है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Varanasi
Updated Date
प्रदूषित हो रही मां गंगा
प्रदूषित हो रही मां गंगा
Prabhat Khabar

मोक्षदायिनी मां गंगा का पानी इन-दिनों काला होता जा रहा है. घाटों के किनारे बसे स्थानीय लोगों ने इसके पीछे की वजह सीवेज के गंदे पानी को बताया है. सरकार की ओर से गंगा में सफाई अभियान भी चलाया जा रहा है, बावजूद इसके कोई रिजल्ट देखने को नहीं मिल रहा है. गंगा के गंदे पानी से पूजा-पाठ स्नान से जुड़े लोगों को यहां काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. दूषित हो रहे गंगा के जल में कोई भी धार्मिक कार्य करने से लोग कतरा रहे हैं.

दशाश्वमेध घाट पर रहने वाले हेमंत मिश्रा ने भी गंगा के पानी को काला होने की बात कहते हुए बताया कि पिछले 8-10 दिनों से यह हो रहा है. इसके पीछे की वजह उन्होंने सरकार की ओर से उचित सफाई नहीं किये जाने और नाला पूरी तरह से नहीं खुलना बताया है. इससे यहां स्नान करने वाले लोगों को भी काफी दिक्कतें हो रही हैं.

गंगा हुई मैली
गंगा हुई मैली
Prabhat Khabar

घाट के पुरोहित विजय शंकर तिवारी ने भी गंगा के पानी को काला होते हुए देखकर चिंता जताई. उन्होंने कहा कि ये पूरा गंगा का पानी काला नजर आ रहा है. अस्सी नाले समेत बड़े बड़े नाले बह रहे हैं. पूरी कालिमा फैलती जा रही हैं. हम हमेशा सुनते रहते हैं कि सफाई की दृष्टि से इन नालों को बंद कर दिया गया है, लेकिन धरातल पर कुछ और ही देखने को मिल रहा है. गंगा के पानी में कालापन बढ़ने की वजह से न ये चरणामृत लेने लायक रह गया है, न ही स्नान के लिए रहा. अब, सरकार की ओर से गंगा सफाई के लिए किया गया हर प्रयास व्यर्थ नजर आ रहा है.

दरअसल, गंगा नदी का काला पानी सिंधिया घाट, बालाजी घाट, रामघाट, गंगा महल घाट के किनारे काला देखा गया है. गंगा का पानी महल घाट के पास सबसे ज्यादा काला था. वहीं मणिकर्णिका घाट के पास बसे स्थानीय लोगों का कहना है कि नदी का बहाव कम है और महाश्मशान घाट से निकली राख बह नहीं पा रही है, जिसकी वजह से गंदगी किनारे पर ही जमा हो रही है. कुछ लोगों का यह भी कहना है कि श्रीकाशी विश्वनाथ धाम निर्माण के लिए ललित घाट के किनारे गंगा में प्लेटफॉर्म बनाया गया है, जिसकी वजह से किनारे की तरफ बहाव कम हुआ है. इस एक कारण की वजह से राख और बाकी गंदगी बह नहीं पा रही है. यह गंगा पानी में ही सीमित रह गई है.

रिपोर्ट- विपिन सिंह, वाराणसी

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें