1. home Home
  2. state
  3. up
  4. lucknow
  5. up news why pm narendra modi talked about gomukhi and ayodhya in during lucknow visit abk

लखनऊ के दौरे से चुनावी मतलब साध गए पीएम मोदी? गोमुखी और अयोध्या का जिक्र रहा खास

लखनऊ में मंगलवार को हुए न्यू अर्बन इंडिया के ट्रांसफॉर्मिंग अर्बन लैंडस्केप सम्मेलन-सह-एक्सपो के उद्घाटन के मौके पर भी पीएम मोदी ने अयोध्या मॉडल को देखा. दूसरी तरफ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सीएम योगी आदित्यनाथ भी पीएम मोदी की तारीफ करते नहीं थके.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
लखनऊ में पीएम मोदी और सीएम योगी
लखनऊ में पीएम मोदी और सीएम योगी
प्रभात खबर

PM Modi Lucknow Visit: पीएम नरेंद्र मोदी की मंगलवार को लखनऊ यात्रा कहीं ना कहीं बीजेपी के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारियों का शंखनाद जैसा दिखा. उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले पीएम मोदी का उत्तर प्रदेश में हर महीने दौरा है. पीएम मोदी को अयोध्या से जोड़कर भी रखा जा रहा है. लखनऊ में मंगलवार को हुए न्यू अर्बन इंडिया के ट्रांसफॉर्मिंग अर्बन लैंडस्केप सम्मेलन-सह-एक्सपो के उद्घाटन के मौके पर भी पीएम मोदी ने अयोध्या मॉडल को देखा. दूसरी तरफ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सीएम योगी आदित्यनाथ भी पीएम मोदी की तारीफ करते नहीं थके.

रक्षा मंत्री और सीएम ने की पीएम मोदी की तारीफ

लखनऊ सांसद और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पीएम नरेंद्र मोदी के कार्यों की तारीफ की. उन्हें दुनिया का सबसे लोकप्रिय नेता बताया. उन्होंने कहा कि जब वो गुजरात के सीएम थे तब उन्होंने अर्बन प्लानिंग पर विशेष फोकस किया था. आज प्रधानमंत्री के तौर पर वो उन कार्यों को आगे बढ़ा रहे हैं. भूकंप और प्लेग से निपटने में जो कदम उन्होंने उठाए थे, उसकी तारीफ आज भी की जाती है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी भाषण में कई बार पीएम मोदी के कुशल नेतृत्व और मार्गदर्शन का जिक्र किया. सीएम योगी आदित्यनाथ ने बताया कि पीएम मोदी के कारण उत्तर प्रदेश को स्मार्ट सिटी योजना का लाभ मिला है.

विमलेश से की बातचीत रहा बेहद खास

लखनऊ पहुंचे पीएम मोदी ने आगरा की विमलेश से खास बातचीत की. उन्होंने विमलेश के बनाए गए खास उत्पाद के बारे में भी जाना. मुस्लिम बाहुल्य आगरा की रहने वाली विमलेश माला जपने वाला थैला बनाती हैं. थैले को गोमुखी कहा जाता है. हिंधू धर्मग्रंथों में जप और ध्यान में गोमुखी का प्रयोग जरूरी माना जाता है.

गोमुखी थैली कपड़े जैसे होती है. इसका प्रयोग माला जपने के लिए किया जाता है. हिंदू धर्म के अनुसार यदि कोई माला जप रहा है और किसी की उस पर नजर पड़ जाये तो माला जपने वाले को पूर्ण फल प्राप्त नहीं होता है. जब भी कोई मंत्र या माला जपता है तो उसे गोमुखी का प्रयोग करने की सलाह दी जाती है. गोमुखी में माला जपते समय हाथ की तर्जनी अंगुली माला से स्पर्श नहीं होनी चाहिए. माला जपने वाले का हाथ और माला गोमुखी के अंदर रहती है. इसका उस स्थान पर महत्व और भी अधिक हो जाता है, जिस स्थान पर कई लोग एक साथ मंत्र या माला जाप करते हैं. गोमुखी में रुद्राक्ष, तुलसी या किसी अन्य मूल्यवान या पवित्र माला को सुरक्षित रूप से रखा जा सकता है.

राम और अयोध्या का नाम लेना नहीं भूले पीएम

अपने भाषण में पीएम मोदी ने कहा कि यह प्रभु श्रीराम की भूमि है और भगवान बुद्ध की भूमि है. उन्होंने पीएम आवास योजना के लाभार्थियों से अपील करते हुए कहा कि इस बार दीपावली में अयोध्या में 7.50 लाख दीप जलाने का कार्यक्रम है. मैं उत्तर प्रदेश को कहता हूं, रोशनी के लिए स्पर्धा में मैदान में आएं. देखें अयोध्या ज्यादा दीप जलाता है कि जो 9 लाख घर दिए गए हैं, वो 9.18 लाख दीपक जलाकर दिखाते हैं.

लखनऊ में वरिष्ठ पत्रकार डॉ. योगेश मिश्रा ने प्रभात खबर से बातचीत में बताया कि देखिए, प्रधानमंत्री जी की छवि ही हिंदुत्व पर बनी है और यहां मामला मैजोरिटी वर्सेस माइनॉरिटी का है. ऐसे में वो मेजोरिटी को खुश करने का मौका नहीं छोड़ना चाहते हैं. गोमुखी बनाने वाली महिला से बातचीत हो या अयोध्या की चर्चा करना, आज के कार्यक्रम में भी उन्होंने खुद को हिंदुत्व के इर्द-गिर्द ही रखा है. उत्तर प्रदेश में शक्ति के तीन स्थल हैं अयोध्या काशी और मथुरा. अयोध्या विवाद सुलझ चुका है और काशी भी सुलझने की राह पर है. भव्य कॉरिडोर बनाया जा रहा है. ऐसे में प्रधानमंत्री को पता है कि कब किस बात का उल्लेख करने से उनका संदेश प्रदेश के जनमानस तक जाएगा. प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भगवा वस्त्र पहनते हैं और पीएम मोदी खुद हिंदुत्व के केंद्रबिंदु में हैं. ऐसे में लगता है चुनाव इसी कॉम्बिनेशन पर लड़ा जाएगा.

(इनपुट: उत्पल पाठक, लखनऊ)

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें