1. home Home
  2. state
  3. up
  4. lucknow
  5. electricity power crisis in up amid diwali and dussehra 2021 coal shortages yogi adityanath avi

दिवाली-दशहरा में कोयले की संकट ने UP में बिजली विभाग की बढ़ाई चिंता, सीएम योगी ने लिखा PM Modi को पत्र

सीएम योगी ने पीएम मोदी और कोयला मंत्री को पत्र लिखकर अतिरिक्त कोयला उपलब्ध कराने की मांग की है. बताया जा रहा है कि कोयले की किल्लत की वजह से यूपी में करीब 10000 मेगावाट कम बिजली की आपूर्ति हो रही है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Lucknow
Updated Date
कोयले की संकट ने UP में बिजली विभाग की बढ़ाई चिंता
कोयले की संकट ने UP में बिजली विभाग की बढ़ाई चिंता
Prabhat Khabar File

फेस्टिवल सीजन में कोयले की कमी ने यूपी के बिजली विभाग की टेंशन बढ़ा दी है. बताया जा रहा है कि राज्य के कई हिस्सों में बिजली आपूर्ति सही तरीके से नहीं हो पा रही है. इसी बीच सीएम योगी आदित्यनाथ से पीएम मोदी को पत्र लिखा है. सीएम ने अपने पत्र में कोयले की व्यवस्था सुचारु करने की मांग की है.

रिपोर्ट के मुताबिक सीएम योगी ने पीएम मोदी और कोयला मंत्री को पत्र लिखकर अतिरिक्त कोयला उपलब्ध कराने की मांग की है. बताया जा रहा है कि कोयले की किल्लत की वजह से यूपी में करीब 10000 मेगावाट कम बिजली की आपूर्ति हो रही है. वहीं त्योहारी सीजन से पहले बिजली की इस तरह आपूर्ति ने विभाग की चिंता बढ़ा दी है.

वहीं देश में बढ़ते कोयला संकट के बीच केंद्रीय कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने शनिवार को कहा कि कोयले की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में वृद्धि के कारण बिजली उत्पादन घटा है, लेकिन यह स्थिति तीन-चार दिन में ठीक हो जायेगी. समाचार एजेंसी के मुताबिक एक कार्यक्रम के दौरान संवाददाताओं से प्रह्लाद जोशी ने कहा कि देश के कई इलाकों में अत्यधिक वर्षा से भी बिजली उत्पादन संयत्रों में कोयले की कमी हुई है.

जोशी ने कहा, ‘हम अगर आप पिछले कई वर्षों से तुलना करेंगे तो सितंबर माह के दौरान कोयला का उत्पादन और आपूर्ति उच्चतम स्तर पर हुयी है और विशेष कर अक्टूबर महीने के दौरान अगले तीन से चार दिनों में स्थिति ठीक हो जायेगी.'

गौरतलब है कि देश के कई इलाकों में अत्यधिक वर्षा के कारण कोयला की आवाजाही प्रभावित होने से दिल्ली और पंजाब समेत कई राज्यों में बिजली संकट गहरा गया है. आयातित कोयला कीमतों के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने की वजह से आयातित कोयला आधारित बिजली संयंत्र अपनी क्षमता के आधे से भी कम बिजली का उत्पादन कर रहे हैं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें