1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. lucknow
  5. bp mandal was the great hero of social justice amy

BP Mandal: सामाजिक न्याय के महानायक व मूक क्रांति के जनक थे स्व. बीपी मंडल

बीपी मंडल की 40वीं पुण्यतिथि के मौके पर कांग्रेस नेता लौटन राम निषाद ने ओबीसी क्रीमीलेयर निर्धारण के लिए बनी बीपी शर्मा कमेटी की अनुशंसा को खारिज कर गणेश सिंह पटेल की अध्यक्षता वाली संसदीय समिति की रिपोर्ट लागू कराने, शिक्षा और स्वास्थ्य का निजीकरण बंद कराने की मांग की.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
स्व. बीपी मंडल की पुण्यतिथि पर कार्यक्रम
स्व. बीपी मंडल की पुण्यतिथि पर कार्यक्रम
प्रभात खबर

Lucknow: स्व. बीपी मंडल पिछड़ावर्ग के सामाजिक न्याय के महानायक व मूक क्रांति के जनक थे. बीपी मंडल विधायक, सांसद, मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री भी रहे. पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष के रूप की गई सिफ़ारिशों के कारण ही उन्हें पिछड़ा वर्ग के महानायक के रूप में याद किया जाता है. 13 अप्रैल को उनकी पुण्यतिथि मनाई जाती है.

कांग्रेस नेता चौ. लौटन राम निषाद ने इस मौके पर कहा कि बीपी मंडल ने कहा था कि आरक्षण संवैधानिक मौलिक अधिकार उन्मूलन व आर्थिक उन्नयन का साधन नहीं, बल्कि वंचित तबके के प्रतिनिधित्व सुनिश्चितिकरण का आधार है. उन्होंने कहा कि कॉलेजियम सिस्टम की जगह भारतीय न्यायिक सेवा आयोग का गठन किया जाये.

ईडब्लूएस कोटा असंवैधानिक

लौटन राम निषाद ने बीपी मंडल को याद करते हुए जनगणना 2021 में ओबीसी व अन्य वर्गों की जातिगत जनगणना कराने व ओबीसी की जातियों को सभी स्तरों पर समानुपातिक आरक्षण कोटा दिए जाने की केंद्र सरकार से मांग की. उन्होंने कहा कि आर्थिक पिछड़ेपन के आधार पर ईडब्ल्यूएस कोटे में दिए गए 10 प्रतिशत आरक्षण कोटे को असंवैधानिक व उच्चतम न्यायालय के निर्णय के प्रतिकूल है.

उन्होंने कहा कि इंदिरा साहनी बनाम भारत सरकार के मंडल कमीशन के सम्बंध में 16 नवंबरर 1992 के निर्णय के अनुसार आरक्षण की सीमा 50 प्रतिशत से अधिक नहीं हो सकती. इसके बावजूद भी केंद्र सरकार ने इसे 59.5 प्रतिशत कर दिया है. ऐसे में वह ओबीसी को समानुपातिक आरक्षण व सेंसस-2021 में जातीय जनगणना कराने से पीछे क्यों हट रही है.

लौटन राम निषाद ने उच्च न्यायपालिका में न्यायाधीशों का मनोनयन कॉलेजियम से न कर भारतीय न्यायिक सेवा आयोग के माध्यम से करने, सरकारी उपक्रमों के निजीकरण प्रक्रिया को बंद करने की बात कही. ओबीसी क्रीमीलेयर निर्धारण के लिए बनी बीपी शर्मा कमेटी की अनुशंसा को खारिज कर गणेश सिंह पटेल की अध्यक्षता वाली संसदीय समिति की रिपोर्ट लागू कराने, शिक्षा और स्वास्थ्य का निजीकरण बंद किया जाये.

ओबीसी-एससी के खाली पदों को भरने के चले अभियान

बीपी मंडल की पुण्यतिथि पर यह कहने की जरूरत है कि मंडल कमीशन, रामजी महाजन आयोग और स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशों को लागू किया जाये. ओबीसी, एससी के खाली पदों को भरने के लिए बैकलॉग पूरा किया जाये. इन सबके लिए विशेष भर्ती अभियान चलाने आदि मांगों को लेकर वंचित तबके को बड़े आंदोलन करने की जरूरत है.

बीपी मंडल को उमाशंकर यादव, अनुराग सिंह यादव अन्नु, महेश लोधी, ओपी पाल, ओमप्रकाश बागी, मनोज यादव, श्रीराम मौर्य, मीना निषाद ने श्रद्धांजलि दी.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें