सरकारी स्कूल में मदरसे वाली प्रार्थना कराते थे हेड मास्टर साहब, मिला ऐसा ''सबक''...

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

पीलीभीत (उप्र) : जिले के एक प्राइमरी स्कूल में नियम विरुद्ध तरीके से प्रार्थना कराने के आरोप में निलम्बित किये गये दिव्यांग प्रधानाध्यापक को कड़ी चेतावनी देते हुए बहाल कर दिया गया है. उनका तैनाती स्थल भी बदल दिया गया है.

जिला बेसिक शिक्षाधिकारी देवेन्द्र स्वरूप ने शनिवार को जारी आदेश में कहा है कि प्रधानाध्यापक फुरकान अली को कठोर चेतावनी दी गई है और मानवीय आधार पर उन्हें उसी पद पर बहाल कर दिया गया है.

हालांकि उन्हें प्राथमिक विद्यालय गयासपुर द्वितीय से हटाकर बख्तावर लाल-द्वितीय प्राथमिक विद्यालय में तैनात किया गया है. उन्होंने बताया कि अली को सचेत किया गया है कि भविष्य में वह विभागीय नियमों का पालन सुनिश्चित करते हुए वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में नियमानुसार अपने कर्तव्यों को निभाएंगे.

स्वरूप ने बताया कि अली को गयासपुर द्वितीय प्राथमिक विद्यालय में नियम विरुद्ध तरीके से प्रार्थना कराये जाने के आरोपों में प्रथम दृष्टया दोषी पाये जाने पर निलंबित करके खंड शिक्षा अधिकारी नगर क्षेत्र पीलीभीत से संबद्ध किया गया था.

लेकिन फुरकान अली के दिव्यांग होने की वजह से बाद में मानवीय आधार पर उन्हें निलंबन अवधि में प्राथमिक विद्यालय लार्ज साइज नगर क्षेत्र बीसलपुर से संबद्ध कर दिया गया था.

उन्होंने बताया कि अमरिया के खंड शिक्षा अधिकारी उपेन्द्र कुमार मामले की विस्तृत जांच कर रहे हैं. इस सप्ताह के शुरू में मीडिया में आयी खबरों में कहा गया था कि प्रधानाध्यापक फुरकान अली मदरसों में की जाने वाली प्रार्थना को अपने प्राइमरी स्कूल में करा रहे हैं.

विश्व हिन्दू परिषद की स्थानीय इकाई ने इसका विरोध करते हुए प्रशासन से शिकायत की थी.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें