UPA सरकार में नहीं था पाकिस्तान को जवाब देने का साहस, बोले हरदीप सिंह पुरी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

लखनऊ : केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा है कि कांग्रेस की अगुवाई वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार में पाकिस्तान को जवाब देने का साहस नहीं था. केंद्र की पूर्ववर्ती यूपीए सरकार पर पाकिस्तान को जवाब देने से मुंह चुराने का आरोप लगाते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मौजूदा नरेंद्र मोदी सरकार ने इस सिलसिले को बदला है.

पुरी ने रविवार की रात लेखिका सुमन देवी की पुस्तक ‘अंतरप्रवाह’ का विमोचन करने के बाद विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की सुरक्षित वतन वापसी का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती यूपीए सरकार के कार्यकाल में अपने लोगों को पिटवाने के बाद गंभीर परिणाम का खतरा बताकर यह कहते हुए पल्ला झाड़ लिया जाता था कि हम दोनों देश परमाणु शक्ति से संपन्न हैं.

उन्होंने कहा कि अब मोदी सरकार के जमाने में ऐसा नहीं है. हमने पुलवामा हमले के जवाब के तहत पाकिस्तान के आतंकवादी ठिकानों पर हमला किया. कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री के साथ सीएमएस के संस्थापक जगदीश गांधी भी मौजूद रहे. इसके पूर्व कानपुर में संवाददाताओं से बातचीत में पुरी ने कहा कि जो लोग वायुसेना से पाकिस्तान में हमला किये जाने के सबूत मांग रहे हैं, वे देशद्रोही हैं.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान खुद मान रहा है कि उसके यहां एयर स्ट्राइक हुई थी. किसी व्यक्ति या दल की भाजपा नेताओं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दुश्मनी हो सकती है, लेकिन देश से नहीं होनी चाहिए. देश की अस्मिता के साथ खिलवाड़ नहीं किया जाना चाहिए.

पुरी ने कहा की वायुसेना के जांबाज विंग कमांडर अभिनंदन ने वर्ष 1960 में बने मिग-21 विमान से पाकिस्तान के अत्याधुनिक अमेरिका निर्मित एफ-16 विमान को मार गिराया. यह कोई मामूली बात नहीं है. पाकिस्तान ने अभिनंदन को यूं ही नहीं छोड़ा, बल्कि जेनेवा संधि के तहत ऐसा किया गया.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें