यूपी में बांग्लादेशी रच रहे थे बड़ी साजिश, पासपोर्ट बनाने वाले तीन सदस्य गिरफ्तार, जानें पूरा मामला

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) ने फर्जी प्रमाण-पत्रों के आधार पर बांग्लादेशियों के पासपोर्ट बनाने वाले गिरोह में शामिल एक बांग्लादेशी नागरिक समेत तीन लोगों को आज गिरफ्तार कर लिया. एटीएस के महानिरीक्षक असीम अरण ने यहां बताया कि एटीएस, अभिसूचना विभाग और सहारनपुर पुलिस की टीम द्वारा की गयी संयुक्त कार्यवाही में गाजियाबाद से बांग्लादेशी नागरिक यूसुफ अली और सहारनपुर के देवबंद से वसीम और एहसान नामक व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया.

उन्होंने बताया कि यूपी एटीएस को सूचना मिली थी कि फर्जी आधार कार्ड तथा अन्य प्रमाण पत्रों के आधार पर भारत में अवैध रुप से रह रहे, फर्जी दस्तावेजों के आधार पर विदेश जाने तथा भेजने वाले बांग्लादेशियों का एक गिरोह सक्रिय है. जांच के दौरान पता लगा कि इन दिनों गाजियाबाद के मुरादनगर में रह रहे बांग्लादेशी नागरिक युसूफ अली ने भी देवबन्द से ही फर्जी पते पर पासपोर्ट बनवा लिया है और वह इस गिरोह का सक्रिय सदस्य है. अरण ने बताया कि एटीएस ने यूसुफ को गिरफ्तार कर उसके पास से फर्जी पते पर बनवाए गये दो आधार कार्ड, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर कार्ड, मूल निवास पहचान पत्र, पासपोर्ट की छायाप्रति, विभिन्न बैंक की चेक बुक, पास बुक, एटीएम कार्ड, तीन मोबाइल, चार अन्य लोगों के पश्चिम बंगाल के पते के वोटर कार्ड तथा आधार कार्ड, पासपोर्ट तथा ग्राम पंचायत प्रमाण पत्र की अनेक छायाप्रतियां बरामद की.

इसके बाद एटीएस, अभिसूचना विभाग तथा सहारनपुर पुलिस की संयुक्त टीम ने देवबन्द, सहारनपुर से वसीम अहमद तथा एहसान अहमद को गिरफ्तार कर उनके पास से लैपटॉप, कंप्यूटर, प्रिंटर, स्कैनर, बडी संख्या में फोटो, बने अधबने प्रमाण पत्र तथा अनेक प्रमाण पत्रों की सैंकडों छायाप्रति बरामद हुई हैं. अरण ने बताया कि यूसुफ के खातों में सऊदी अरब से भी कई बार एक-एक लाख से अधिक राशि का लेन-देन हुआ है जिसकी जानकारी की जा रही है.

अभियुक्तों से मिली जानकारी के अनुसार वे शपथ पत्र तथा स्कूल के फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर फर्जी पते पर आधार कार्ड, वोटर कार्ड तथा मूल निवास इत्यादि प्रमाण पत्र तैयार करा लेते थे तथा सांठगांठ कर, जाँच पूरी करा कर पासपोर्ट बनवा लेते थे. इसके एवज में वे बांग्लादेशियों से पैसा वसूलते थे. अभियुक्तों को सम्बंधित कोर्ट में पेश कर ट्रांजिट रिमांड लेकर लखनऊ लाया जाएगा.गिरफ्तार अभियुक्तों के विषय में राष्ट्रीय सुरक्षा तथा आतंकवाद से जुडे पहलुओं पर यूपी एटीएस तथा अन्य एजेंसियां जानकारी जुटा रही हैं.

यह भी पढ़ें-
BJP MLA का विवादास्पद बयान, कहा- कुछ नालायक नेताओं ने बिना 'दाढ़ी' वालों को रोक कर खड़ी की मुसीबत

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें