1. home Home
  2. state
  3. up
  4. gorakhpur
  5. gorakhpur city air quality index still remains in bad category abk

CM योगी जी, गोरखपुर की जनता सांसों की भीख मांग रही और आप लाइट मेट्रो चलाने की बात कर रहे

अब, जिला प्रशासन ने निर्माण कार्य करने वाले विभागों को निर्देशित किया है कि वो पानी का छिड़काव करें. नगर निगम को पानी छिड़काव का नया जिम्मा सौंपा गया है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Gorakhpur
Updated Date
गोरखपुर में वायु प्रदूषण का खराब स्तर बरकरार
गोरखपुर में वायु प्रदूषण का खराब स्तर बरकरार
प्रभात खबर

Gorakhpur News: गोरखपुर में दिवाली के बाद से ही वायु प्रदूषण का स्तर बेहद खराब स्थिति में है. वायु प्रदूषण का स्तर 300 के ऊपर है. 300 के ऊपर का एयर क्वालिटी इंडेक्स बेहद खराब माना जाता है. ऐसे में लोगों को सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्याएं जारी है. जिला प्रशासन भी प्रदूषण को लेकर सजग है. अब, जिला प्रशासन ने निर्माण कार्य करने वाले विभागों को निर्देशित किया है कि वो पानी का छिड़काव करें. नगर निगम को पानी छिड़काव का नया जिम्मा सौंपा गया है.

नगर आयुक्त अविनाश सिंह ने कहा है कि प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए पांच अतिरिक्त टैंकरों सहित नौ स्प्रिंग वाहनों से शहर में छिड़काव का काम कराया कराया जा रहा है. शहर के प्रमुख चौराहे जैसे गोलघर, काली मंदिर, कलेक्ट्रेट, शास्त्री चौक, टाउन हॉल, बेतियाहाता मार्गों पर पानी छिड़काव कराया जा रहा है. सड़क किनारे, डिवाइडर और निर्माण स्थलों पर पानी के छिड़काव के निर्देश दिए गए हैं.

दीपावली के बाद से गोरखपुर की एयर क्वालिटी इंडेक्स में सुधार नहीं हुआ है. यह स्तर 300 से नीचे जरूर आया था. लेकिन, गोरखपुर का एयर क्वालिटी इंडेक्स लगातार 300 के ऊपर बना हुआ है. ऐसे में डॉक्टरों की सलाह है कि दमा और फेफड़े रोग के मरीजों खास ख्याल रखें. सुबह के वक्त मॉर्निंग वॉक सहित उन कामों से परहेज करने की जरूरत है, जिसकी वजह से सांस फूलने की शिकायत आती है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें