1. home Home
  2. state
  3. up
  4. allahabad
  5. women came via tractor municipal corporation said her sons are bachelors due to lack of house nrj

Prayagraj News: CM योगी की जनसभा में नगर निगम के ट्रैक्टर से आईं महिलाएं, बोलीं-घर न होने से कुंवारे हैं बेटे

सभास्थल पर पीएम आवास योजना के लाभार्थियों और आवेदन करने वालों को जिला प्रशासन द्वारा लाया जा रहा है. कुछ महिलाओं को नगर निगम के ट्रैक्टर ट्राली के द्वारा भी सभास्थल तक लाया गया.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Prayagraj
Updated Date
नगर निगम के ट्रैक्टर से लाई गईं महिलाएं.
नगर निगम के ट्रैक्टर से लाई गईं महिलाएं.
Prabhat Khabar

Prayagraj News: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ माफिया अतीक अहमद के कब्जे से मुक्त कराई गई लूकरगंज स्थित नजूल की जमीन पर रविवार 26 दिसंबर को पीएम आवास योजना के तहत गरीबों के लिए फ्लैट का भूमि पूजन करेंगे. इसके बाद वह लीडर प्रेस मैदान में एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे. सभास्थल पर पीएम आवास योजना के लाभार्थियों और आवेदन करने वालों को जिला प्रशासन द्वारा लाया जा रहा है. इस दौरान कुछ महिलाओं को नगर निगम के ट्रैक्टर ट्राली के द्वारा भी सभास्थल तक लाया गया.

‘घर नहीं है इसीलिए बेटे हैं कुंवारे’

नगर निगम के ट्रैक्टर ट्राली से सभास्थल पर पहुंची महिलाओं ने ‘प्रभात खबर’ से बातचीत में बताया कि उनके पास आवास नहीं है. इसीलिए वह मुख्यमंत्री से आवास मांगने आई हैं. ट्रैक्टर से सभास्थल पहुंची शीला सोनकर ने बताया, ‘वह छप्पर की झोपड़ी में रह रही है. पांच बच्चे हैं. चार बेटे और एक बेटी. अभी दो बेटों की शादी नहीं हो रही. जो भी देखने आता है तो पहले घर देखता है.’ शीला ने सवाल पूछते हुए कहा कि भला कोई अपनी बेटी झोपड़ी में रहने के लिए देगा. मुख्यमंत्री आवास दे देते हैं तो बच्चों की शादी हो जाएगी.

‘आवास तो मिला पर रास्ता नहीं’

वहीं कुछ आवास लाभार्थियों ने कहा की उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवास तो मिले हैं. उन्हें भी रविवार को कार्यक्रम स्थल पर बुलाया गया है. लाभार्थियों ने पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी की जमकर तारीफ की. वहीं, कुछ महिलाओं का कहना था कि वह दो-तीन साल से पीएम आवास योजना के लिए आवेदन कर रही हैं लेकिन सुनवाई नहीं हो रही. वहीं, झूंसी तुलापुर निवासी पीएम आवास योजना की लाभार्थी मीना देवी ने बताया कि आवास तो बन गया लेकिन रास्ता नहीं मिल रहा. परिजनों ने अपने हिस्से की जमीन बेंच दी. अब पैतृक संपत्ति में ही उन्हें रास्ता नहीं मिल रहा.

रिपोर्ट : एसके इलाहाबादी

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें