1. home Home
  2. state
  3. up
  4. aligarh
  5. aligarh news air becomes poisonous for children and old people notice to 20 factories and 150 hospitals acy

Aligarh News: अलीगढ़ की हवा हुई जहरीली, 20 फैक्ट्रियों-150 अस्पतालों को नोटिस

अलीगढ़ में दीपावली के 12 दिन बाद भी हवा में प्रदूषण कम नहीं हो रहा है. प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से 20 फैक्ट्री और 150 अस्पतालों को नोटिस भेजा गया है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Aligarh
Updated Date
उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड अलीगढ़ कार्यालय
उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड अलीगढ़ कार्यालय
प्रभात खबर

Aligarh News: दीपावली के 12 दिन बाद भी हवा में प्रदूषण कम होने का नाम नहीं ले रहा. अलीगढ़ में बच्चों एवं बुजुर्गों का घर से बाहर निकलना उनके सेहत के लिए नुकसानदायक माना जा रहा है. विगत 11 नवंबर को वायु का पीएम-10 यानी पार्टिकुलेट मैटर 328.60 माइक्रो प्रति घन मीटर रहा, जो सामान्य तौर पर 100 होना चाहिए.

दीपावली से अब तक वायु में प्रदूषण का यह है हाल

विगत 4 नवंबर को पीएम- 10 की मात्रा 426.85, 5 नवंबर को 375.88, 6 नवंबर को 361. 22, 7 नवंबर को 319.86, 8 नवंबर को 355. 22, 9 नवंबर को 352.02, 10 नवंबर को 278.92 और 11 नवंबर को 328.60 रहा. दीपावली पर जहां पीएम-10 426.85 तक पहुंच गया था, वहीं 11 नवंबर को 328.60 रिकॉर्ड किया गया.

उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के विशेष वैज्ञानिक अधिकारी डॉक्टर जेपी सिंह ने प्रभात खबर को बताया कि सामान्य तौर पर यह 100 होना चाहिए. यह इस समय यलो श्रेणी में आता है, जो बच्चों और वृद्धों के लिए नुकसानदायक है. खासकर इससे सांस लेने में दिक्कत होती है और ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है.

इन कारणों से हवा हुई जहरीली

दीपावली पर देर रात तक चले पटाखों से, बुलंदशहर खुर्जा के निकट पराली जलाने से, जीटी रोड पर चल रहे निर्माण कार्य से, वाहनों से निकले धुएं से, बायो मेडिकल वेस्ट से निकलने वाले धुएं से अलीगढ़ की आबोहवा प्रदूषित हुई है.

20 फैक्ट्री, 150 हॉस्पिटल और 217 ईट भट्ठों को नोटिस

उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने जिले की 20 फैक्ट्रियों को वायु प्रदूषण के साथ उत्प्रवास शुद्धिकरण संयंत्र यानी ईटीपी ना लगाने पर नोटिस दिया है. बायो मेडिकल वेस्ट से होने वाले जलवायु प्रदूषण के लिए 150 से अधिक हॉस्पिटलों को नोटिस थमा कर सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाने के बारे में जानकारी मांगी गई है. एनजीटी के निर्देश पर हुई जांच में जिले के 217 भट्ठों को भी प्रतिबंधित किया गया है.

सांस फूलना, आंखों में चुभन सहित हो सकती हैं ये परेशानियां

सीनियर फिजीशियन डॉ. राकेश कुमार उपाध्याय ने प्रभात खबर को बताया कि इतने वायु प्रदूषण से श्वसन तंत्र प्रभावित होता है. सांस लेने में दिक्कत होती है जिससे ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है और हार्टअटैक का भी खतरा बढ़ जाता है. बच्चों एवं वृद्ध, जो सांस रोगी हैं, इन दिनों उन्हें बाहर नहीं निकलना चाहिए. अगर बाहर निकलना है तो मास्क का उपयोग करना चाहिए. वायु प्रदूषण से आंखों में जलन और खुजली भी हो सकती है. इसके लिए आंखों पर चश्मा लगाए और ताजे पानी से धोते रहें.

रिपोर्ट- चमन शर्मा, अलीगढ़

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें