1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. agra
  5. work of laying the track in agra metro depot caught pace nrj

Agra Metro News: मेट्रो के डिपो में ट्रैक बिछाने का काम ने पकड़ी रफ्तार, जानें अब तक का डेवलपमेंट

उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन द्वारा आगरा मेट्रो डिपो परिसर में ट्रैक बिछाया जा रहा है. यह काम एलएंडटी कंपनी द्वारा किया जा रहा है. वहीं उत्तर प्रदेश मेट्रो के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने बताया कि आगरा मेट्रो के लिए हेड हारडेड रेल ट्रैक का प्रयोग किया जा रहा है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Agra
Updated Date
आगरा मेट्रो के लिए हेड हारडेड रेल ट्रैक का प्रयोग किया जा रहा है.
आगरा मेट्रो के लिए हेड हारडेड रेल ट्रैक का प्रयोग किया जा रहा है.
प्रभात खबर

Agra Metro News: ताजनगरी में सरपट दौड़ने के लिए मेट्रो ट्रैक को बिछाने का काम तेजी से चल रहा है. उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन द्वारा आगरा मेट्रो डिपो परिसर में ट्रैक बिछाया जा रहा है. यह काम एलएंडटी कंपनी द्वारा किया जा रहा है. वहीं उत्तर प्रदेश मेट्रो के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने बताया कि आगरा मेट्रो के लिए हेड हारडेड रेल ट्रैक का प्रयोग किया जा रहा है.

औसतन 5 मिनट के अंतर पर चलती है

दरअसल प्रबंध निदेशक कुमार केशव का कहना है कि हेड हारडेड रेल ट्रैक पारंपरिक तौर पर प्रयोग की जाने वाली पटरियों से भी मजबूत होता है. और हेड हारडेड रेल ट्रैक की मेंटेनेंस कॉस्ट भी काफी कम होती है. आगरा मेट्रो डिपो परिसर में ट्रैक बिछाने का काम बदस्तूर जारी है. और जल्दी ही प्रयोरिटी कॉरिडोर के एलिवेटेड भाग में ट्रैक बिछाने का कार्य शुरू कर दिया जाएगा. प्रबंध निदेशक ने बताया कि रेलवे की तुलना में मेट्रो प्रणाली में पटरियों पर गाड़ियों का आवागमन अत्यधिक होता है. यहां मेट्रो रेल औसतन 5 मिनट के अंतर पर चलती है. तेजी से ट्रेन की स्पीड पकड़ने और ब्रेक लगाने की स्थिति में ट्रेन के पहिए और पटरी के बीच अत्यधिक घर्षण होता है.

बैलास्टलेस ट्रैक अधिक मजबूत होगा

इसके कारण सामान्य पटरी घिस जाती है. पटरी टूटने, क्रेक आदि जैसी समस्या आने लगती हैं. लेकिन हेड हारडेड रेल ट्रैक के अधिक मजबूत होने के कारण ऐसी कोई समस्या नहीं होती. यूपीएमआरसी के द्वारा आगरा मेट्रो डिपो परिसर में बैलास्टेड ट्रैक बिछाया जा रहा है. बैलास्टेड ट्रैक के लिए समतल भूमि पर गिट्टी एवं कॉन्क्रीट के स्लीपरों पर पटरी बिछाई जाती है. वहीं आगरा मेट्रो के दोनों कॉरिडोर के मेन रोड पर बैलास्टलेस ट्रेक का प्रयोग किया जाएगा. बैलास्टलेस ट्रैक के लिए कंक्रीट बीम पर पटरियों को बिछाया जाएगा. इसके साथ ही पारंपरिक तौर पर प्रयोग होने वाले ट्रैक की तुलना बैलास्टलेस ट्रैक अधिक मजबूत होगा एवं इसका मेंटेनेंस भी काफी कम है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें