1. home Hindi News
  2. state
  3. mp
  4. questions raised in the party on babulal worshiping godse joining congress bjp leader tightens said ksl

नाथूराम गोडसे की पूजा करनेवाले बाबूलाल के कांग्रेस में शामिल होने पर पार्टी में उठे सवाल, बीजेपी नेता ने कसा तंज, कहा...

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की मौजूदगी में कांगेस में शामिल हुए बाबूलाल चौरसिया
मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की मौजूदगी में कांगेस में शामिल हुए बाबूलाल चौरसिया
सोशल मीडया

भोपाल : ग्वालियर में हिंदू महासभा के नेता बाबूलाल चौरसिया के कांग्रेस में शामिल होने के बाद पार्टी नेताओं ने ही सवाल उठाने शुरू कर दिये हैं. वहीं, भाजपा नेता ने ट्वीट कर कांग्रेस पर तंज कसा है. मालूम हो कि कांग्रेस ने महात्मा गांधी की हत्या करनेवाले नाथूराम गोडसे को लेकर भाजपा के खिलाफ मुखर रही है.

नाथूराम गोडसे की मूर्ति पर जलाभिषेक करते बाबूलाल चौरसिया
नाथूराम गोडसे की मूर्ति पर जलाभिषेक करते बाबूलाल चौरसिया
सोशल मीडया

बाबूलाल चौरसिया ग्वालियर के वार्ड-44 वार्ड से पार्षद रहे हैं. इस वार्ड में देश का इकलौता नाथूराम गोडसे का मंदिर है. यही नहीं, साल 2017 में नाथूराम गोडसे की मूर्ति स्थापना कर उन्होंने पूजा की थी.

मामले पर विवाद बढ़ने पर बाबूलाल चौरसिया ने सफाई देते हुए अब कहा है कि ''मैं जन्मजात कांग्रेसी हूं. हिंदू महासभा ने अंधेरे में मुझे रख कर नाथूराम गोडसे की पूजा करायी थी. हिंदू महासभा की विचारधारा मेरे मन में समाहित नहीं हो सकती है.''

बाबूलाल चौरसिया के कांग्रेस में शामिल होने के पार्टी में ही सवाल उठने लगे हैं. कांग्रेस सांसद अरुण यादव ने ट्वीट कर कहा है कि ''महात्मा गांधी और गांधी विचारधारा के हत्यारे के खिलाफ, मैं खामोश नही बैठ सकता हूं.'' उन्होंने सवाल उठाते हुए लिखा कि ''बापू हम शर्मिंदा है.''

मालूम हो कि मध्य प्रदेश कांग्रेस ने ट्वीट कर सूचना दी थी कि ''हिंदू महासभा के नेता कांग्रेस में शामिल. ग्वालियर के वार्ड 44 के पार्षद एवं हिंदू महासभा के नेता बाबूलाल चौरसिया आज प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल हुए.''

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि ''गोडसे का पुजारी] अब करेगा कांग्रेस की सवारी.'' साथ ही कहा है कि ''नाथूराम गोडसे के पुजारी को पार्टी में शामिल करने से मध्य प्रदेश कांग्रेस का दोहरा चरित्र ही सामने आता है. उसके लिए तो 'गांधी' के नाम पर सिर्फ तथाकथित 'गांधी परिवार' ही अहम है, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी नहीं.''

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें