1. home Home
  2. state
  3. mp
  4. madhya pradesh news increase number of dengue cases in gwalior lead to a scarcity of beds in some hospitals smb

मध्य प्रदेश: ग्वालियर में खतरनाक हुआ डेंगू का आतंक, अस्पतालों में बेड की कमी, अब तक सामने आए 1165 मामले

Dengue Cases in Gwalior मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में डेंगू का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. स्वास्थ्य विभाग की कोशिशों के बाद भी जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. इस सीजन की बात करें तो एमपी के इस जिले में अब तक डेंगू मरीजों की संख्या बारह सौ के करीब पहुंच गई है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
मध्य प्रदेश: ग्वालियर में डेंगू का आतंक, अब तक सामने आए 1165 मामले
मध्य प्रदेश: ग्वालियर में डेंगू का आतंक, अब तक सामने आए 1165 मामले
ट्वीटर

Dengue Cases in Gwalior मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में डेंगू का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. स्वास्थ्य विभाग की कोशिशों के बाद भी जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. इस सीजन की बात करें तो एमपी के इस जिले में अब तक डेंगू मरीजों की संख्या बारह सौ के करीब पहुंच गई है.

न्यूज एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, ग्वालियर सीएमओ डॉ मनीष शर्मा ने बताया कि जिले में डेंगू के मामलों की संख्या बढ़ने से कुछ अस्पतालों में बिस्तरों की कमी हो गई है. डॉ मनीष शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि ग्वालियर जिले में अब तक डेंगू के कुल 1165 मामले सामने आए हैं. खास बात यह है कि इनमें से 60 फीसदी बच्चे हैं.

वहीं, मुरार अस्पलात के प्रभारी डॉ आलोक पुरोहित ने कहा कि हम अपने पास मौजूद सभी बिस्तरों का उपयोग कर रहे हैं. इस वार्ड में हमारे पास तेरह बेड हैं. यदि बाल रोगियों की संख्या बढ़ती है, तो हमारे पास एक बिस्तर पर दो मरीजों को एक साथ समायोजित करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है. उन्होंने कहा कि हमने दो गंभीर बच्चों को आईसीयू में भर्ती कराया है. हमारे पास मेडिसिन विभाग में भी कई मरीज हैं.

बता दें कि डेंगू का लार्वा अधिकांश घर में जमा पानी में पनपता है. एडीज मच्छर तीन फीट तक की ऊंचाई तक उड़ सकता है. बच्चों की त्वचा नर्म होती है, इसलिए डेंगू मच्छर उन्हें आसानी से डंक मार देता है. यदि बच्चे को बुखार आए तो तत्काल डाक्टर से परामर्श लें और बच्चों को खाने में तरल पदार्थ का सेवन कराएं. यदि उल्टी, दस्त, कपकपी, हाथ-पैर ठंडे होने की शिकायत आए तो अस्पताल में भर्ती करें.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें