1. home Hindi News
  2. state
  3. mp
  4. curfew imposed in bhopal after 23 covid19 cases

कोविड-19 का नया केंद्र : 23 नये मरीज मिलने के बाद भोपाल में कर्फ्यू, चौहान बोले : मोदी के नेतृत्व में सामूहिक संकल्प से परास्त होगा कोरोना

By Mithilesh Jha
Updated Date
भोपाल में अत्यावश्यक सामान लाने के लिए सिर्फ एक व्यक्ति को बाहर निकलने की अनुमति.
भोपाल में अत्यावश्यक सामान लाने के लिए सिर्फ एक व्यक्ति को बाहर निकलने की अनुमति.
Twitter

भोपाल : मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इंदौर की तर्ज पर कर्फ्यू लगा दिया गया है. दूध एवं दवाइयों की दुकानों को छोड़कर पूरा शहर बंद रहेगा. वर्तमान में चल रहे लॉकडाउन की प्रक्रिया को और सख्त करने के संबंध में भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने आदेश जारी कर दिया है.

रविवार की रात को जारी आदेश में कहा गया है, ‘टोटल लॉकडाउन में दूध एवं दवाइयों की दुकानों को छोड़कर शेष समस्त प्रकार की दुकानें आगामी आदेश तक बंद रहेंगी. आम आदमी को सिर्फ निकटतम दूध और दवाई की दुकान तक अकेले जाने हेतु अनुमति रहेगी.’

इसमें कहा गया है कि उपरोक्त स्थिति में नगर निगम द्वारा खाना वितरण प्रणाली एवं केवल होम डिलीवरी प्रणाली चालू रहेगी. यह आदेश 5 अप्रैल, 2020 की रात 12 बजे से आगामी ओदश तक लागू रहेगा. इसी बीच, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को एम्स भोपाल के डॉयरेक्टर, मेडिसिन विभाग के प्रमुख तथा कोविड 19 के स्टेट टेक्निकल एडवाइजर से चर्चा कर कोरोना वायरस की स्थिति एवं चिकित्सा व्यवस्थाओं की जानकारी ली.

एम्स के निदेशक प्रोफेसर सरमन सिंह ने मुख्यमंत्री को बताया, ‘भोपाल के सभी मरीजों की हालत अच्छी है. भोपाल में कम्युनिटी स्प्रेड जैसी कोई स्थिति नहीं है.’ एम्स के चिकित्सा विभाग के अध्यक्ष रजनीश जोशी तथा स्टेट टेक्निकल एडवाइजर कोविड-19 लोकेंद्र दवे ने मुख्यमंत्री को इलाज की व्यवस्थाओं के संबंध में जानकारी दी.

एम्स के निदेशक श्री सिंह ने मुख्यमंत्री को बताया कि कोरोना के इलाज की दृष्टि से भोपाल में चिरायु, हमीदिया, जेके, एम्स एवं जेपी अस्पतालों को क्षेत्रवार पूल किया जा रहा है. इससे आवश्यकता पड़ने पर मरीजों को वहीं चिकित्सा सुविधा प्राप्त हो सकेगी.

ऐसे प्रबंध किए जा रहे हैं, जिससे आवश्यकता होने पर जिस अस्पताल में इलाज हो रहा है, वहीं मरीज के लिए आइसीयू की व्यवस्था हो सके. इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मेडिकल टीम को कई निर्देश दिये.

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘कोरोना के जितने भी सैंपल लिये जा रहे हैं, उनका ट्रैक रिकॉर्ड रखा जाये. एम्स में भर्ती दो मरीजों (एक पुलिसकर्मी सहित) के साथ-साथ सभी मरीजों का विशेष ध्यान रखा जाये, जिससे वे जल्दी से जल्दी स्वस्थ हों. दिन-रात दूसरों की जान बचाने के कार्य में लगे हमारे कोरोना योद्धाओं का हमें पूरा ध्यान रखना है. हमें हर हालत में कोरोना को हराना है.’

उन्होंने कहा कि पृथक वास में रखे गये व्यक्तियों को अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए प्रयास करना चाहिए. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कोरोना वायरस के खिलाफ पूरा देश एकजुट है. इस एकजुटता के संकल्प के रूप में सबने अपने-अपने घरों में दीये जलाये हैं तथा प्रकाश किया है. भारत की 130 करोड़ जनता का यह सामूहिक संकल्प कोरोना को परास्त करेगा. मानवता जीतेगी, इंसान जीतेगा, भारतीयता जीतेगी, हिंदुस्तान जीतेगा.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें