1. home Hindi News
  2. state
  3. mp
  4. apart from lying in bed and tweeting there is no work of congress leaders narottam mishra raging on the charge of hiding death figures aml

बिस्तर पर लेटकर ट्वीट करने के अलावा कांग्रेस नेताओं का कोई काम नहीं, मौत के आंकड़े छुपाने के आरोप पर भड़के नरोत्तम मिश्रा

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
नरोत्तम मिश्रा
नरोत्तम मिश्रा
twitter

इंदौर : मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर बड़ा हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि कांग्रेस नेताओं का बिस्तर पर लेटे-लेटे ट्वीट करने के अलावा कोई काम नहीं बचा है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस जमीन पर उतरकर कोरोना संक्रमितों की मदद तो नहीं कर रही है. जो सरकारें काम कर रहीं हैं, उन्हीं पर आरोप लगा रही है. मिश्रा उस आरोप पर भड़क गये थे, जिसमें मध्य प्रदेश सरकार पर मौत के आंकड़े छुपाने का आरोप लगाया गया था.

उन्होंने कहा कि हम भला मौत के आंकड़े क्यों छुपायेंगे. क्या ये मौते दंगा में हुई हैं. यह प्राकृतिक आपदा है. पूरी दुनिया कोरोना संक्रमण की मार झेल रही है. हम क्या, कोई भी व्यक्ति कोविड से मरने वालों का आंकड़ा क्यों छुपायेगा. यह आपदा केवल मध्य प्रदेश में नहीं पूरी दुनिया में फैली है. मिश्रा से सवाल पूछा गया था कि श्मशानों और कब्रिस्तानों में कहीं ज्यादा भीड़ है.

मिश्रा ने उस सवाल का भी जवाब दिया जिसमें पूछा गया कि क्या सरकार कोरोना के दूसरे लहर के लिए तैयार नहीं थी, इसे बड़ी चूक मानी जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि बड़ी चूक कुछ भी नहीं हुई है. महामारी की इतनी खतरनाक लहर है कि कोई भी व्यक्ति इसकी कल्पना नहीं कर सकता. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार से कोई चूक नहीं हुई है. अगर चूक की बात है तो महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और राजस्थान से कहां चूक हुई.

मिश्रा ने कहा कि कोविड की लहर को देखते हुए राज्य सरकार ने प्रदेश की जेलों में बंद 4,500 सजायाफ्ता कैदियों को पैरोल पर रिहा करने का फैसला किया है. उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को भी आड़े हाथों लिया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेताओं को बिस्तर पर लेटकर ट्वीट करने के अलावा महामारी से निपटने में कोई योगदान नहीं देना है.

बता दें कि मध्य प्रदेश में अबतक कोरोनावायरस संक्रमण के कारण 5,221 लोगों की मौत हो चुकी है. यह देश के सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमित राज्यों में भी शुमार है. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कमलनाथ जैसे लोग मदद के नाम पर केवल जुबानी जमापूंजी खर्च कर सकते हैं. ये लोग महामारी के मरीजों का मजाक बना रहे हैं.

Posted By: Amlesh Nandan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें