1. home Hindi News
  2. state
  3. maharashtra
  4. sharjil and arnab goswami target on maharashtra government strict action may be taken against usmani vwt

महाराष्ट्र सरकार के निशाने पर शरजील और अर्नब गोस्वामी, उस्मानी के खिलाफ हो सकती है सख्त कार्रवाई

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
एएमयू के पूर्व छात्र शरजील उस्मानी और अर्नब गोस्वामी.
एएमयू के पूर्व छात्र शरजील उस्मानी और अर्नब गोस्वामी.
फाइल फोटो.
  • उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने शरजील के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की कही बात

  • शरजील ने एल्गार परिषद में धार्मिक भावना भड़काने वाली की थी टिप्पणी

  • अर्नब गोस्वामी पर आत्महत्या करने के लिए उकसाने के साथ कई आरोप

मुंबई : महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने कहा कि जांच के बाद अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र नेता शरजील उस्मानी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. उस्मानी पर इस साल की जनवरी महीने में पुणे में एल्गार परिषद में अपनी टिप्पणी से धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप है.

पवार ने राज्य की विधान परिषद में ''तथाकथित पत्रकार'' की ओर इशारा करते हुए यह भी कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा के सामने खतरा पैदा करने वाले किसी व्यक्ति का समर्थन करने का कोई कारण नहीं है. हालांकि, पवार ने किसी का नाम नहीं लिया, लेकिन उनका इशारा स्पष्ट रूप से रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्णब गोस्वामी की ओर था.

उन्होंने कहा कि शरजील उस्मानी और अपराध करने वाले अन्य लोगों के खिलाफ जांच के बाद कड़ी कार्रवाई की जाएगी. किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा. देश और राज्य की सामाजिक सुरक्षा पर दो राय नहीं होनी चाहिए. महाराष्ट्र भाजपा उस्मानी के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रही है.

रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी के एक स्पष्ट संदर्भ में पवार ने कहा कि एक तथाकथित पत्रकार के खिलाफ आरोप लगाए गए. उन्हें आत्महत्या करने के लिए उकसाने के आरोप में भी गिरफ्तार किया गया था. उन पर व्हाट्सएप पर देश की सुरक्षा को लेकर गंभीर और गोपनीय जानकारी देने का आरोप है. इस पत्रकार ने पुलवामा आतंकी हमले में देश के जवानों के शहीद होने के बाद खुशी जाहिर की थी.

पवार ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा पैदा करने वाले किसी भी व्यक्ति का साथ देने का कोई कारण नहीं है. हम सभी को ऐसे मुद्दों पर समझदारी से काम लेना चाहिए. यह मेरा स्पष्ट दृष्टिकोण है और यह हमारे महा विकास अघाड़ी (एमवीए) का भी दृष्टिकोण है.

अपने संबोधन के दौरान पवार ने यह भी कहा कि शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की एमवीए सरकार महाराष्ट्र के सर्वांगीण विकास के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने यह आश्वासन दिया कि विकास निधि के आवंटन में राज्य के किसी भी क्षेत्र के साथ कोई अन्याय नहीं होगा.

Posted by : Vishwat Sen

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें