1. home Home
  2. state
  3. maharashtra
  4. maharastra politics sanjay raut says 25 years ago ncp chief sharad pawar said that bjp does not want unity in the country shiv sena understand it only in 2019 smb

संजय राउत बोले- शरद पवार ने BJP को 25 साल पहले ही बताया था विभाजनकारी, शिवसेना को 2019 में हुआ एहसास

शिवसेना सांसद संजय राउत ने शनिवार को BJP पर निशाना साधते हुए बड़ी बात कही है. संजय राउत ने शिवसेना और बीजेपी के मौजूदा रिश्तों की ओर इशारा करते हुए कहा कि NCP के मुखिया शरद पवार ने 25 साल पहले ही कहा था कि बीजेपी एक विभाजनकारी पार्टी है. लेकिन, शिवसेना को इस सच का अहसास वर्ष 2019 में हुआ.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Shiv Sena MP Sanjay Raut
Shiv Sena MP Sanjay Raut
Twitter

Sanjay Raut Attacks On BJP शिवसेना के सांसद संजय राउत ने शनिवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) पर निशाना साधते हुए बड़ी बात कही है. सांसद संजय राउत ने शिवसेना और बीजेपी के मौजूदा रिश्तों की ओर इशारा करते हुए कहा कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के मुखिया एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार ने 25 साल पहले ही कहा था कि बीजेपी एक विभाजनकारी पार्टी है. लेकिन, शिवसेना को इस सच का अहसास वर्ष 2019 में हुआ.

शिवसेना नेता संजय राउत ने विभिन्न राजनीतिक रैलियों में मराठी में शरद पवार (Sharad Pawar) के दिए गए भाषणों का संग्रह नेमकेची बोलाने नामक पुस्तक के विमोचन के मौके पर यह बातें कही. सांसद संजय राउत ने कहा कि करीब 25 साल पहले शरद पवार ने कहा था कि बीजेपी देश में एकता नहीं चाहती और इस पार्टी के तरीके विभाजनकारी हैं. संजय राउत ने कहा कि हालांकि, शिवसेना को इसका एहसास दो साल पहले हुआ था. उन्होंने साथ ही कहा था कि BJP की नीतियां ऐसी हैं, जो देश को पीछे ले जाएंगी, लेकिन हमें इसे महसूस करने में काफी समय लगा.

संजय राउत ने पुस्तक के शीर्षक का उल्लेख करते हुए इसका नाम इतना अच्छा है कि हम सभी को इसे पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को गिफ्ट में देना चाहिए. उन्हें कुछ चीजें जानने की जरुरत है. शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि संसद का केंद्रीय सभागार पार्टियों के नेताओं और वरिष्ठ पत्रकारों के अलावा अन्य राजनेताओं के बीच बैठकों के लिए जाना जाता था, जो विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करते थे. हालांकि, पिछले कुछ वर्षों में हमने देखा है कि संसद में सवाल पूछने की कोशिश करने वालों का विरोध किया जा रहा है और उन्हें दबाया जा रहा है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें