1. home Home
  2. state
  3. maharashtra
  4. maharashtra latest news congress questions on aaditya thackeray over rs 15 crore expense on penguin upkeep smb

महाराष्ट्र: पेंग्विन की देखभाल के लिए 15 करोड़ का टेंडर, कांग्रेस ने शिवसेना को घेरा, दागे तीखे सवाल

Penguin Care Maharashtra Politics मुंबई के भायखला चिड़ियाघर में पेंग्विन की देखभाल के लिए भारी खर्च किए जाने के मुद्दे को लेकर कांग्रेस ने शिवसेना पर निशाना साधा है. कांग्रेस ने तीन साल के लिए सात पेंग्विन की देखभाल के लिए 15 करोड़ रुपये के टेंडर निकालने के फैसले पर सवाल उठाए हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Congress Questions on Shiv Sena Over Rs 15 Crore Expense on Penguin Care
Congress Questions on Shiv Sena Over Rs 15 Crore Expense on Penguin Care
file

Penguin Care Maharashtra Politics मुंबई के भायखला चिड़ियाघर में पेंग्विन की देखभाल के लिए भारी खर्च किए जाने के मुद्दे को लेकर कांग्रेस ने शिवसेना पर निशाना साधा है. कांग्रेस ने तीन साल के लिए सात पेंग्विन की देखभाल के लिए 15 करोड़ रुपये के टेंडर निकालने के फैसले पर सवाल उठाए हैं. ऐसे में पेंग्विन के मुद्दे को लेकर शिवसेना सरकार में मंत्री और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे एक बार फिर फंसते दिख रहे हैं.

Penguin Care Maharashtra Politics मुंबई के भायखला चिड़ियाघर में पेंग्विन की देखभाल के लिए भारी खर्च किए जाने के मुद्दे को लेकर कांग्रेस ने शिवसेना पर निशाना साधा है. कांग्रेस ने तीन साल के लिए सात पेंग्विन की देखभाल के लिए 15 करोड़ रुपये के टेंडर निकालने के फैसले पर सवाल उठाए हैं. ऐसे में पेंग्विन के मुद्दे को लेकर शिवसेना सरकार में मंत्री और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे एक बार फिर फंसते दिख रहे हैं.

रवि राजा ने कहा कि बीएमसी अस्पतालों से ज्यादा इसपर खर्च कर रही है. मेनटिनेंस के नाम पर इतना खर्च करना उचित नहीं है. बीएमसी को रखरखाव की लागत की समीक्षा करनी चाहिए. पांच साल में बीएमसी को रखरखाव की क्षमता का विकास किया जाना था. वहीं, पेंग्विन के रखरखाव की जरूरतों का बचाव करते हुए मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कहा, पहले भी इस मुद्दे पर राजनीति होती रही है.

किशोरी पेडनेकर ने कहा कि पेंग्विन मुंबई की एक विशिष्ट पहचान और चिड़ियाघर का मुख्य आकर्षण बन गए हैं. उन्होंने कहा कि ये खर्चे निश्चित तापमान वाले बाड़े के रख रखाव से संबंधित होते हैं. महामारी के वक्त चिड़ियाघर बंद था. लेकिन, जल्द ही लोग इन्हें इन्हें देखकर आकर्षित होंगे. उन्होंने कहा कि अगर टेंडर में कोई अनावश्यक वृद्धि हुई है, तो हम समीक्षा करेंगे. लेकिन, रखरखाव की गुणवत्ता में कोई समझौता नहीं होगा.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें