1. home Hindi News
  2. state
  3. maharashtra
  4. former police commissioners letter explosives home minister anil deshmukh resigns central government should investigate the matter raj thackeray ksl

पूर्व पुलिस कमिश्नर का पत्र विस्फोटक, गृहमंत्री अनिल देशमुख दें इस्तीफा, केंद्र सरकार करे मामले की जांच : राज ठाकरे

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
राज ठाकरे, प्रमुख, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना
राज ठाकरे, प्रमुख, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना
ANI

मुंबई : देश के उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास एंटीलिया के बाहर विस्फोटकों से भरी स्कॉर्पियो मिलने के मामले में मुंबई के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह द्वारा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखे जाने के बाद महाराष्ट्र की राजनीति गरमा गयी है. महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे ने केंद्र सरकार से हस्तक्षेप करते हुए मामले की जांच करने का अनुरोध किया है.

मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने कहा है कि गृहमंत्री अनिल देशमुख को तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए. उन्होंने कहा है कि मुख्य मामला विस्फोटकों से भरे वाहन का है, जो एक उद्योगपति के आवास के पास पाया गया था. साथ ही कहा कि मैं केंद्र सरकार से हस्तक्षेप करने का अनुरोध करता हूं. राज्य सरकार मामले की जांच नहीं कर सकती.

मालूम हो कि मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को पद से हटाये जाने के बाद उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखा था. इसमें उन्होंने आरोप लगाते हुए निलंबित पुलिसकर्मी सचिन वाझे को गृहमंत्री अनिल देशमुख द्वारा प्रतिमाह 100 करोड़ की वसूली का टॉरगेट दिये जाने की बात कही थी.

महाराष्ट्र में सियासत गरमाने के बाद मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने गृहमंत्री अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग की है. राज ठाकरे ने ट्वीट कर कहा है कि ''मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह की मुख्यमंत्री को लिखी गयी चिट्ठी विस्फोटक है. इससे महाराष्ट्र की छवि खराब हो गयी है. गृह मंत्री अनिल देशमुख को तत्काल अपना इस्तीफा सौंप देना चाहिए और मामले की विस्तृत जांच होनी चाहिए.''

भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद बोले- महाराष्ट्र में महा विकास अघाड़ी शासन के लिए नहीं है, बल्कि लूट के लिए है

भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने प्रेस कॉन्फ्रेन्स कर कहा है कि मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री और राज्यपाल जी को एक चिट्ठी लिखी है. इसमें उन्होंने कहा है कि महाराष्ट्र सरकार के गृह मंत्री ने सचिन वाजे से कहा कि हमें 100 करोड़ रुपये महीना बंदोबस्त करके दो.

साथ ही उन्होंने कहा कि मामले में मुख्यमंत्री द्वारा सदन में एक एसीपी का बचाव किया जा रहा है. गृह मंत्री उसे महाराष्ट्र से हर महीने 100 करोड़ रुपये निकालने के लिए कह रहे हैं! भाजपा एक बाहरी एजेंसी द्वारा एक ईमानदार, पारदर्शी और निष्पक्ष जांच की मांग करना चाहती है.

साथ ही कहा कि महाराष्ट्र में महा विकास अघाड़ी शासन के लिए नहीं है, बल्कि लूट के लिए है. उन्होंने कहा कि इस तरह के भ्रष्टाचार का मॉडल बहुत चौंकानेवाला है. मीडिया को इसे बहुत गंभीरता से लेना चाहिए और इसके पीछे की सच्चाई को उजागर करना चाहिए.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें