1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. singhbhum west
  5. villagers of half dozen villages in saranda affected with red water announced to fight against tata steel long product ltd mth

लाल पानी से त्रस्त सारंडा के आधा दर्जन गांव के लोगों का टाटा स्टील लांग प्रोडक्ट के खिलाफ आर-पार की लड़ाई का एलान

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
प्रभावित गांवों के मुंडा ने नदी-नालों का जायजा लिया और कंपनी से मांग की कि नालों को दुरुस्त करे.
प्रभावित गांवों के मुंडा ने नदी-नालों का जायजा लिया और कंपनी से मांग की कि नालों को दुरुस्त करे.
Shailesh

किरीबुरु (शैलेश सिंह) : सारंडा स्थित टाटा स्टील लांग प्रोडक्ट लिमिटेड की विजय-दो लौह अयस्क खदान से बहकर आने वाली मिट्टी-मुरुम और फाइंस से तितलीघाट, जोजोगुटु, राजाबेड़ा, जामकुंडिया समेत कई गांवों के खेत, कोयना नदी, प्राकृतिक जलस्रोत एवं नालों को भारी नुकसान हुआ है. इससे ग्रामीणों में आक्रोश है.

बुधवार (2 सितंबर, 2020) को तितलीघाट के मुंडा मनचुड़िया सिधु, मानकी लागुड़ा देवगम, राजाबेड़ा के मुंडा जामदेव चाम्पिया, जोजोगुटु के मुंडा कानूराम देवगम, बहदा के मुंडा रोया सिधु व अन्य के नेतृत्व में उक्त गांवों के लोगों ने खदान से प्रभावित नदी-नालों एवं खेतों का जायजा लेने के बाद खदान प्रबंधन से आर-पार की लड़ाई का एलान कर दिया.

तितलीघाट के मुंडा मनचुड़िया सिधु ने कहा कि विजय-दो खदान की मिट्टी-मुरुम व फाइंस बहकर दुआरगुई नाला होते हुए हमारे खेतों को बंजर बना रहा है. फसलों को बर्बाद कर रहा है. इतना ही नहीं, कोयना नदी को भी भारी नुकसान पहुंचा रहा है. नदी-नालों में फाइंस भरने की वजह से अब वर्षा के पानी के तेज बहाव से हमारे खेतों का कटाव हो रहा है.

फाइंस मिले लाल पानी खेत में पहुंच रहे, जिससे जमीन हो रही है बंजर.
फाइंस मिले लाल पानी खेत में पहुंच रहे, जिससे जमीन हो रही है बंजर.
Shailesh

उन्होंने कहा कि उक्त खदान से सबसे ज्यादा प्रभावित हमारा गांव है. लेकिन, कंपनी हमारे गांव में सीएसआर के तहत किसी प्रकार की कोई विकास योजना नहीं चला रही. गांव के बेरोजगारों को खदान में काम नहीं दिया जा रहा है. पूर्व में उक्त खदान के प्रबंधन ने गांव के एक दर्जन से अधिक युवकों पर फर्जी केस करके उन्हें काम से हटा दिया.

मुंडा ने मांग की कि गांव में पेयजल, शिक्षा, चिकित्सा आदि की सुविधाएं कंपनी उपलब्ध कराये. साथ ही तथा खदान की मिट्टी-मुरुम को रोकने के लिए जल्द से जल्द चेकडैम का निर्माण कराये. इतना ही नहीं, नालों में भरी फाइंस को हटाकर उसे पहले जैसा गहरा करे. उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन ने खदान से प्रभावित गांवों में डीएमएफटी फंड से विकास का कोई काम नहीं कर रहा.

इस बैठक में वार्ड सदस्य मुगा चाम्पिया, मोसो बुरमा, लेबेया सिधु, राजेश सांडिल, वीर सिंह हंसदा, गोनो चाम्पिया, टीशु चाम्पिया, कोल्यान चाम्पिया, मोहन सुरीन, मंगल हुरद, अनिल सुरीन, बेहरा सुरीन, मधु सिधु, शंकर सोरेन, मंगल सिधु, दुल्गु चाम्पिया समेत सैकड़ों ग्रामीण मौजूद थे.

दुआरगुई नाला से फाइंस आकर कोयना नदी में मिल जाते हैं, जिससे नदी का पानी प्रदूषित हो गया है.
दुआरगुई नाला से फाइंस आकर कोयना नदी में मिल जाते हैं, जिससे नदी का पानी प्रदूषित हो गया है.
Shailesh

कंक्रीट की दीवार बनवा रहे हैं : टाटा स्टील

ग्रामीणों के आरोप पर टाटा स्टील लांग प्रोडक्ट लिमिटेड के महाप्रबंधक नवीन श्रीवास्तव ने ‘प्रभात खबर’ को बताया कि अत्यधिक वर्षा होने की वजह से ऐसी संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है. इस समस्या के स्थायी समाधान के लिए हम खदान क्षेत्र में नया रिटर्निंग वाल बना रहे हैं. कंक्रीट की इस दीवार की लंबाई लगभग डेढ़ सौ मीटर होगी.

उन्होंने यह भी कहा कि वह अपनी एक टीम तितलीघाट क्षेत्र में जांच के लिए भेजेंगे. जहां भी कुछ कराने की आवश्यकता होगी, वह इस बहाव को रोकने के लिए करेंगे. उन्होंने कहा कि भारी वर्षा पर किसी का इख्तियार नहीं है. बारिश का पानी बहकर जायेगा ही. इसे पूरी तरह से रोक पाना संभव नहीं है. उन्होंने कहा कि वर्षा की वजह से थोड़ी समस्या उत्पन्न हो जाती है. हम इसके स्थायी समाधान की दिशा में प्रयास कर रहे हैं.

Posted By : Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें