1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. singhbhum west
  5. under the policing control arrangement many new camps formed in the district the soldiers posted in many camps also be changed dgp smj

पुलिसिंग कंट्रोल अरेंजमेंट के तहत जिले में कई नये कैंप बनेंगे, कई कैंपों में तैनात जवान भी बदले जायेंगे : डीजीपी

By Prabhat khabar Digital
Updated Date

Jharkhand news, Chaibasa news : चाईबासा (पश्चिमी सिंहभूम) : पश्चिमी सिंहभूम जिला (West Singhbhum district) में पुलिसिंग के कंट्रोल अरेंजमेंट (Policing control arrangement) के तहत कई नये कैंप बनाये जायेंगे. साथ ही कई कैंपों में तैनात किये गये जवानों को भी बदला जायेगा. मंगलवार (13 अक्टूबर, 2020) को झारखंड के डीजीपी एम विष्णुवर्धन राव ने पश्चिमी सिंहभूम जिले मुख्यालय चाईबासा में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कही. उन्होंने कहा कि जिले में जहां भी माओवादियों की गतिविधि देखने को मिलेगी, उनपर कठोर कार्रवाई होगी. पुलिस माओवादियों के हर कदम का मुंहतोड़ जवाब देगी. डीजीपी श्री राव मंगलवार को कोल्हान प्रमंडल के घोर नक्सल प्रभावित इलाकों का जायजा लेने पश्चिमी सिंहभूम पहुंचे थे.

डीजीपी ने अंतरराज्यीय बाॅर्डरों पर नक्सलियों की गतिविधि को रोकने के सवाल को लेकर कहा कि लगातार अन्य राज्यों की पुलिस के साथ तालमेल बैठाकर बैठकें आयोजित की जा रही है. सोमवार को ही विभिन्न सीमावर्ती राज्यों के साथ बैठक कर नक्सलियों के खिलाफ ज्वाइंट ऑपरेशन (Joint operation) चलाने पर भी सहमती बनी है.

उन्होंने कहा कि पश्चिमी सिंहभूम जिले में गठित आईडीसी से ग्रामीण क्षेत्रों के विकास में काफी फायदा हुआ है. अब पहले की तुलना में विकास के कार्य भी अधिक हो रहे हैं. ऐसे में देखा जाये, तो जिले में विगत वर्षों की तुलना में विकास में काफी गति आयी है. आगे भी ग्रामीण क्षेत्रों में विकास की गति में रफ्तार लाने को कई नये कार्य किये जायेंगे.

उन्होंने कहा कि पहले जब जिले में आया था, जहां ग्रामीण क्षेत्रों में सड़क नहीं थी. वहां अब सड़क देखने को मिल रहा है. उम्मीद है कि जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में भी सड़कों की स्थिति में और सुधार आयेगा. आवगमन में सुधार होगा, तो बहुत सी चीजों में सुधार देखने को मिलेगा.

जिले में पुलिसिंग के कार्यों से हुए अवगत, सीआरपीएफ की समस्या जानी

डीजीपी एमवी राव ने समाहरणालय स्थित पुलिस अधीक्षक (SP) के कॉन्फ्रेंस हॉल में पुलिस संग सीआरपीएफ के अधिकारियों के साथ लगभग 40 मिनट तक बैठक की. इस दौरान जिले में पुलिसिंग से संबंधित फर्स्टहैंड जानकारी उपलब्ध करने के साथ-साथ यहां पुलिसिंग के कार्य एवं समस्याओं से भलीभांति अवगत हुए. इसके बाद आगे पुलिस को कैसे और भी बेहतर किया जा सके. इस बाबत अधिकारियों से विस्तार से चर्चा की.

डीजीपी ने कहा कि इस जिला में काफी अधिक संख्या में सीआरपीएफ बल के जवान भी मौजूद हैं. ऐसे में सीआरपीएफ के झारखंड सेक्टर के आईजीपी, सीआरपीएफ के डीआईजी समेत कई बटालियन के कमांडेट के साथ बैठक कर उनके जिले में कार्य करने के तौर-तरीकों को जाना है. इस दौरान सीआरपीएफ के कार्यों में आ रही समस्याओं को कैसे दूर किया जाये. साथ ही जवानों को विभिन्न कैंपों में रहने के लिए कोई कमी हैं या नहीं आदि की जानकारी उन्होंने प्राप्त की. वहीं, कार्यकलापों में कैसे और क्या-क्या सुधार लाये जा सकता है. इसपर भी रणनीति तैयार की गयी.

डीजीपी का गॉड ऑफ ऑनर से पुलिसकर्मियों ने किया स्वागत

झारखंड के डीजीपी श्री राव सेना के विमान से पश्चिमी सिंहभूम के गुदड़ी प्रखंड अंतर्गत दीघा स्थित सीआरपीएफ बटालियन कैंप पहुंचे. जहां से दोपहर 1.40 बजे के करीब वे सेना के विमान से पश्चिमी सिंहभूम जिला मुख्यालय स्थित चाईबासा पहुंचे. चाईबासा के टाटा कॉलेज मैदान में डीजीपी का हैलीकप्टर लैंड हुआ. यहां कोल्हान प्रमंडल के डीआईजी राजीव रंजन सिंह, जिला उपायुक्त अरवा राजकमल समेत पुलिस अधीक्षक अजय लिंडा ने स्वागत किया. इसके बाद वे जिला के समाहरणालय भवन पहुंचे. यहां पुलिस लाइन के सार्जेंट मंटू कुमार समेत अन्य जवानों ने गॉड ऑफ ऑनर से डीजीपी का स्वागत किया. इसके बाद वे सीधे पुलिस अधीक्षक के कॉन्फ्रेंस रूम में पहुंचे. जहां पुलिसिंग समेत क्राइम कंट्रोल से संबंधित अधिकारियों के साथ महत्वपूर्ण बैठक किये.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें