1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. singhbhum west
  5. irctc indian railways news railwaymen get 78 days bonus 19000 workers of chakradharpur railway division get benefit smj

Indian Railways: रेलकर्मियों को मिलेगा 78 दिनों का बोनस, चक्रधरपुर रेल मंडल के 19000 कर्मियों को मिलेगा लाभ

केंद्रीय कैबिनेट ने रेलकर्मियों के लिए 78 दिनों का बोनस देने की घोषणा की है. इससे चक्रधरपुर रेल मंडल के करीब 19000 कर्मियों को इसका लाभ मिलेगा. इसकी जानकारी रेलवे बोर्ड के चेयरमैन सुनीत शर्मा ने दी. कहा कि जहां कोरोना संक्रमण कम है, वहां पैसेंजर ट्रेन चलाने पर विचार किया जा रहा है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
चक्रधरपुर रेल मंडल के करीब 19000 कर्मियों को मिलेगा 78 दिनों का बोनस.
चक्रधरपुर रेल मंडल के करीब 19000 कर्मियों को मिलेगा 78 दिनों का बोनस.
फाइल फोटो.

IRCTC/Indian Railways News (शीन अनवर, चक्रधरपुर, पश्चिमी सिंहभूम) : रेलवे बोर्ड के चेयरमैन सुनीत शर्मा ने जानकारी दी है कि रेलवे के कर्मचारियों को 78 दिनों का बोनस देने का फैसला केंद्रीय कैबिनेट में लिया गया है. उन्होंने बताया कि दुर्गा पूजा से पहले सभी रेलकर्मियों के खातों में बोनस की राशि का भुगतान कर दिया जायेगा. इससे चक्रधरपुर रेल मंडल के करीब 19000 कर्मियों के खाते में भी बोनस का पैसा आयेगा.

चेयरमैन रेलवे बोर्ड के इस घोषणा से चक्रधरपुर रेल मंडल के DRM लाइव जुड़े हुए थे. उनके साथ मंडल के सीनियर डीसीएम मनीष कुमार पाठक भी मौजूद थे. रेल मंडल के अधिकारियों ने CRB के इस प्रेस कोंफ्रेंस को DRM सभागार में लाइव देखा और सुना. 78 दिनों के बोनस से चक्रधरपुर रेल मंडल क्षेत्र के करीब 19 हजार कर्मी लाभांवित होंगे. वहीं, इन कर्मियों के खाते में बोनस का पैसा 10-11 अक्टूबर तक आने की संभावना है.

इन सबके बीच CRB ने रेलवे यात्रियों के लिए महत्वपूर्ण बात कही है कि बहुत जल्द उन क्षेत्रों में पैसेंजर ट्रेनें पहले की तरह चलायी जायेंगी, जहां कोरोना का संक्रमण ना के बराबर है. यही नहीं इन इलाकों में ट्रेनों का परिचालन पहले की तरह करने पर भी विचार किया जा रहा है. चक्रधरपुर के DRM ने माना कि डिविजन जिन क्षेत्रों में फैला है वहां कोरोना का प्रकोप पहले की तरह नहीं है. उन्होंने उम्मीद जतायी है कि चक्रधरपुर रेल मंडल में भी पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन पहले की तरह शुरू हो सकती है.

यह खबर उन गरीब तबके के रेल यात्रियों के लिए सुखद है जो पैसेंजर ट्रेनें नहीं होने के कारण परेशान थे. अब देखना होगा कि पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन पहले की तरह कब तक होती है. इस दौरान DRM ने यह भी बताया कि रेलवे के सुगम परिचालन को लेकर रेलवे के द्वारा जोर-शोर से विकास के कार्य किये जा रहे हैं. कोरोना काल में जिन रेलकर्मियों की मौत कोरोना से हुई उनके परिजनों को हर तरह का सरकारी लाभ देने का काम भी किया जा रहा है.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें