‘छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री’ को झारखंड की फिक्र नहीं

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

चक्रधरपुर : एक निजी दौरे पर चक्रधरपुर पहुंचे झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल ने मुख्यमंत्री रघुवर दास पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें झारखंड की फिक्र नहीं है. उन्होंने कहा, ‘झारखंड निर्माण का उद्देश्य अब तक पूरा नहीं हुआ है. छत्तीसगढ़ के (रहनेवाले) मुख्यमंत्री को झारखंड के नौजवानों की बेरोजगारी का दर्द नहीं है. स्थानीय लोगों की जमीन विकास के नाम पर ली गयी, लेकिन विकास ही नहीं हुआ.’

तीन आला अधिकारियों को हटाने पर जोर
श्री मरांडी ने कहा कि झारखंड में उच्च पदों पर बैठे तीन भ्रष्ट आला अधिकारियों को राज्य सरकार संरक्षण दे रही है. उन्हें पदमुक्त करना ही होगा. मुख्य सचिव राजबाला वर्मा 1990-91 में चाईबासा में उपायुक्त थीं. उन्हीं के कार्यकाल में चारा घोटाला हुआ. अधिक निकासी के मामले में लालू यादव को जेल हो गया है, फिर मुख्य सचिव को क्यों नहीं.
डीजीपी डीके पांडेय 2015 के पलामू फर्जी एनकाउंटर के दोषी हैं. उन पर 12 मासूमों की जान लेने का आरोप है. वह इस मामले की जांच की लीपापोती कर रहे हैं. जांच करने वालों को डरा-धमका रहे हैं. श्री मरांडी ने कहा कि तीसरे भ्रष्ट आला अधिकारी एडीजी अनुराग गुप्ता हैं, जिन्होंने 2016 के राज्य सभा चुनाव में सत्ताधारी प्रत्याशी को जीत दिलाने के लिए पद
का दुरुपयोग किया. निर्वाचन आयोग की जांच में वह दोषी करार दिये गये. लेकिन राज्य सरकार कोई कार्रवाई नहीं कर रही है.
भाजपा छोड़ किसी भी दल से गठबंधन, विस चुनाव के लिए विकल्प खुले
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें