1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. saraikela kharsawan
  5. the tradition of lord jagannath rath bhangini followed even today on hera panchami the 5th day of the rath yatra smj

प्रभु जगन्नाथ के रथ भंगिनी की परंपरा आज भी निभायी जायेगी, रथ यात्रा के 5वें दिन हेरा पंचमी पर होता है आयोजन

कोविड-19 को लेकर भले ही इस साल प्रभु जगन्नाथ का रथ नहीं चला हो, लेकिन सदियों से चली आ रही परंपरा के अनुसार मां लक्ष्मी द्वारा प्रभु जगन्नाथ के रथ भंगिनी की परंपरा को इस वर्ष भी निभाया जायेगा. रथ यात्रा के पांचवें दिन हेरा पंचमी के मौके पर सरायकेला-खरसावां में रथ भंगिनी अनुष्ठान का आयोजन किया जाता है. इस अनुष्ठान में प्रभु जगन्नाथ नहीं, बल्कि मां लक्ष्मी के भक्तों की विशेष भूमिका रहती है. इसमें अधिकांश महिलाएं होती है. इस वर्ष शुक्रवार (16 जुलाई, 2021) को हेरा पंचमी है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand News : रथ यात्रा के 5वें दिन हेरा पंचमी पर होता है रथ भंगिनी अनुष्ठान का आयोजन.
Jharkhand News : रथ यात्रा के 5वें दिन हेरा पंचमी पर होता है रथ भंगिनी अनुष्ठान का आयोजन.
फाइल फोटो.

Rath yatra 2021, Jharkhand News (शचिंद्र कुमार दाश, सरायकेला) : कोविड-19 को लेकर भले ही इस साल प्रभु जगन्नाथ का रथ नहीं चला हो, लेकिन सदियों से चली आ रही परंपरा के अनुसार मां लक्ष्मी द्वारा प्रभु जगन्नाथ के रथ भंगिनी की परंपरा को इस वर्ष भी निभाया जायेगा. रथ यात्रा के पांचवें दिन हेरा पंचमी के मौके पर सरायकेला-खरसावां में रथ भंगिनी अनुष्ठान का आयोजन किया जाता है. इस अनुष्ठान में प्रभु जगन्नाथ नहीं, बल्कि मां लक्ष्मी के भक्तों की विशेष भूमिका रहती है. इसमें अधिकांश महिलाएं होती है. इस वर्ष शुक्रवार (16 जुलाई, 2021) को हेरा पंचमी है.

शुक्रवार की रात सोशल डिस्टैंसिंग का अनुपालन करते हुए मां लक्ष्मी के चंद भक्त जगन्नाथ मंदिर के निकटवर्ती लक्ष्मी मंदिर से पूजा- अर्चना कर मां लक्ष्मी के कांस्य प्रतिमा को एक पालकी पर लेकर गुंडिचा मंदिर पहुंचेंगे. यहां मंदिर के चौखट पर दस्तक देने के बाद सभी रस्मों को निभाया जायेगा.

इसके बाद श्रद्धालु मां लक्ष्मी की प्रतिमा को पालकी पर लेकर प्रभु जगन्नाथ के रथ नंदीघोष के पास पहुंचेंगे तथा रथ के एक के हिस्से की कुछ लकड़ियों को तोड़ कर वापस अपने मंदिर में पहुंचेंगे. अमुमन देखा जाता है कि रथ भंगिनी की इस परंपरा में काफी संख्या में श्रद्धालु शामिल होते है. लेकिन, इस वर्ष कोविड-19 को लेकर जारी गाइडलाइन के कारण इस अनुष्ठान में मंदिर के चंद सेवायत ही मौजूद रहेंगे. सरायकेला, खरसावां व हरिभंजा के जगन्नाथ मंदिर में सादगी के साथ सभी रस्मों को निभाया जायेगा.

क्या है धार्मिक मान्यता

धार्मिक मान्यता है कि भाई-बहन के साथ गुंडिचा मंदिर गये प्रभु जगन्नाथ के 5 दिन बाद भी श्रीमंदिर वापस नहीं लौटने पर मां लक्ष्मी नाराज हो जाती है. रथ यात्रा के पांचवें दिन मां लक्ष्मी स्वयं सखियों संग गुंडिचा मंदिर जाकर प्रभु जगन्नाथ से वापस श्रीमंदिर लौटने का आग्रह करती है. जब प्रभु जगन्नाथ तत्काल गुंडिचा मंदिर से श्रीमंदिर वापस नहीं लौटते हैं, तो नाराज मां लक्ष्मी प्रभु जगन्नाथ को कोसते हुए प्रभु जगन्नाथ के रथ नंदिषोघ को तोड़ देती है.

कोविड-19 को लेकर सरकार की ओर से जारी निर्देशों का अनुपालन करते हुए शुक्रवार को देर शाम इस धार्मिक परंपरा को खरसावां व हरिभंजा में निभाया जायेगा. इस धार्मिक अनुष्ठान को भी काफी महत्वपूर्ण माना जाता है.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें