1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. saraikela kharsawan
  5. padma shri award 2021 chutni mahto of seraikela waged a war against the witch system get padma shri award get the honor on 9th november smj

Jharkhand News: डायन कुप्रथा के खिलाफ जंग छेड़ने वाली छुटनी महतो 9 नवंबर को पद्मश्री से होंगी सम्मानित

डायन प्रथा के खिलाफ काम करने वाली सरायकेला के गम्हरिया की छुटनी महतो जल्द ही पद्मश्री सम्मान से सम्मानित होंगी. छुटनी महतो को यह सम्मान आगामी 9 नवंबर, 2021 को मिलेगा. इसके लिए उन्हें न्योता भी मिल गया है. इधर, पद्मश्री के लिए नामित छुटनी महतो ने अपने ससुराल महतानडीह के लोगों को धन्यवाद दिया.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
सरायकेला के बीरबांस निवासी छुटनी महतो को 9 नवंबर को मिलेगा पद्मश्री सम्मान.
सरायकेला के बीरबांस निवासी छुटनी महतो को 9 नवंबर को मिलेगा पद्मश्री सम्मान.
फाइल फोटो.

Padmashri award 2021 (गम्हरिया, सरायकेला-खरसावां) : डायन प्रथा के खिलाफ काम करने वाली छुटनी महतो आगामी 9 नवंबर, 2021 को पद्मश्री सम्मान से सम्मानित होगी. इसको लेकर छुटनी महतो को न्योता भी मिल गया है. 25 जनवरी, 2021 को सम्मान के लिए घोषणा से करीब 9 माह बाद सम्मान समारोह के लिए फोन आने से छुटनी महतो समेत उनके परिवार व शुभचिंतकों में खुशी व्याप्त है.

सरायकेला जिला अंतर्गत गम्हरिया प्रखंड के बीरबांस निवासी छुटनी महतो जब 12 साल की थी, तब उसकी शादी गम्हरिया थाना अंतर्गत सामरम पंचायत (वर्तमान में नवागढ़) निवासी धनंजय महतो (अभी मृत) से हुई थी. तीन बच्चों के बाद 2 सितंबर, 1995 को उसके पड़ोसी भोजहरी की बेटी बीमार हो गयी थी. ग्रामीणों को शक हुआ कि छुटनी ने कोई जादू- टोनाकर उसे बीमार कर दिया है. इसके बाद गांव में पंचायत हुई, जिसमें उसे डायन करार देते हुए लोगों ने घर में घुसकर उसके साथ दुष्कर्म करने की कोशिश की गयी थी.

उसके बाद गांव में पंचायती कर उल्टा छुटनी महतो को ही दोषी मानते हुए पंचायत ने 500 रुपये का जुर्माना लगा दिया. उस वक्त छुटनी महतो ने किसी तरह जुगाड़ कर जुर्माना भर दिया. इसके बाद भी लोगों का गुस्सा शांत नहीं हुआ. ग्रामीणों ने ओझा-गुनी के माध्यम से उसे शौच पिलाने का भी प्रयास किया गया. मैला पीने पर मना करने पर जबरन उसके शरीर पर फेंक उसे बेइज्जती किया गया. उसने थाना में भी प्राथमिकी दर्ज करायी. मामले में कुछ लोगों की गिरफ्तारी तो हुई, लेकिन कुछ दिन बाद ही सभी निकल गये.

ग्रामीणों की प्रताड़ना से तंग आकर वो ससुराल छोड़ पति व बच्चों को लेकर बीरबांस स्थित मायके आ गयी, लेकिन कुछ वर्ष बाद ही पति धनंजय महतो ने भी तीन बच्चों को छोड़ गांव लौट आया. इसी वर्ष 30 जून को पति धनंजय महतो का निधन हो गया.

महतानडीह के लोगों को धन्यवाद, जिन्होंने मुझे पद्मश्री बनाया : छुटनी

पद्मश्री के लिए नामित छुटनी महतो ने अपने ससुराल महतानडीह के लोगों को धन्यवाद दिया. उन्होंने कहा कि अंधविश्वास से चूर होकर ग्रामीण अगर उन्हें प्रताड़ित नहीं करते, तो शायद आज मुझे यह मुकाम हासिल नहीं हो पाता. बीरबांस गांव में आपबीती बताते हुए छुटनी महतो रो पड़ी. उन्होंने कहा कि भले ही ससुराल के गांव वालों ने मुझे डायन करार देकर मुझे गांव से निकाल दिया, लेकिन मुझे इस काबिल बनाने में सबसे अहम योगदान महतानडीह के लोगों का ही है, क्योंकि अगर वहां के ग्रामीण मुझे डायन कहकर प्रताड़ित नहीं करते, तो शायद मैं डायन प्रथा के खिलाफ आवाज नहीं उठा पाती.

छुटनी देश की प्रेरणास्रोत : सिंगो

नवागढ़ पंचायत की पूर्व मुखिया सह कार्यकारी समिति प्रधान व महतानडीह निवासी सिंगो टुडू ने कहा कि पद्मश्री छुटनी महतो आज जिस मुकाम पर पहुंची है वह समाज व देश के लिए प्रेरणास्रोत है. उनके जीवन से आने वाले पीढ़ी को सीख लेने की जरूरत है. श्रीमती टुडू ने कहा कि मैं उन्हें व्यक्तिगत रूप से जानती हूं. वर्ष 1995 में जब उक्त घटना घटी थी, तब हमारे ससुर भोगना मांझी द्वारा उन्हें हर संभव सहायता की गयी थी. समाज में व्याप्त महिला उत्पीड़न व डायन जैसी कुप्रथा व अंधविश्वास के खिलाफ आवाज उठाने का प्रयास अतुलनीय व सराहनीय है.

पूरा पंचायत गौरवांवित महसूस कर रहा : घनश्याम

बीरबांस पंचायत के पूर्व मुखिया सह कार्यकारी समिति प्रधान घनश्याम हांसदा ने कहा कि छुटनी महतो को मिलनेवाले पद्मश्री सम्मान से आज पूरा पंचायत गौरवांवित महसूस कर रहा है. हम सभी को उनसे सीख लेते हुए उनके द्वारा शुरू किये गये महिला उत्पीड़न व डायन प्रथा के खिलाफ की लड़ाई को आगे बढ़ाने में साथ चलने की जरूरत है. उनके इस उपलब्धि से आज पंचायत का नाम पूरे देश में रोशन हुआ है.

करीब 18 साल से आशा संस्था से जुड़ी है छुटनी महतो

गैर सरकारी संस्था आशा के सचिव अजय जायसवाल ने कहा कि डायन कुप्रथा के खिलाफ लगातार प्रयास का नजीता है कि छुटनी महतो को पद्मश्री मिल रहा है. इनको पद्मश्री मिलने से इस कुप्रथा को खत्म करने में जुटी अन्य महिलाएं भी काफी प्रभावित होंगी. उन्होंने कहा कि छुटनी महतो आशा संस्था से करीब 18 साल से जुड़ी है. वर्तमान में सरायकेला समेत आसपास के जिलों में डायन कुप्रथा के खिलाफ लगातार कार्य कर रही है.

उन्होंने कहा कि डायन प्रथा प्रतिषेध अधिनियम 2001 कानून में कुछ बदलाव लाने की लगातार कोशिश की जा रही है, ताकि डायन-बिसाही का नाम पर महिलाओं को प्रताड़ित करने वालों को अधिक से अधिक दंड मिल सके. इस कानून में बदलाव के लिए राज्य के पांच जिलों में कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं. आगामी जनवरी माह में राज्य स्तरीय कार्यक्रम कर सीएम और राज्यपाल को ज्ञापन देकर इस कानून में बदलाव लाने की जल्द मांग की जायेगी.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें