1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. saraikela kharsawan
  5. corona vaccination slow progress civil surgeon show cause including chc in charge grj

Jharkhand News: कोरोना टीकाकरण की धीमी प्रगति पर सीएचसी प्रभारी समेत अन्य को शो कॉज, दी ये चेतावनी

सरायकेला के सिविल सर्जन डॉ विजय कुमार ने बताया कि खरसावां, कुचाई, राजनगर, चांडिल एवं नीमडीह प्रखंड में कोविड-19 टीकाकरण कार्य संतोषजनक नहीं है, जिसके कारण स्पष्टीकरण जारी किया गया है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
सिविल सर्जन डॉ विजय कुमार
सिविल सर्जन डॉ विजय कुमार
प्रभात खबर

Jharkhand News: झारखंड के सरायकेला खरसावां जिले में कोरोना टीकाकरण में धीमी प्रगति पर जिले के पांच सीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों के अलावा बीपीओ, लेखा प्रबंधक, डाटा प्रबंधक को शो कॉज जारी किया गया है. जानकारी देते हुए सिविल सर्जन डॉ विजय कुमार ने बताया कि खरसावां, कुचाई, राजनगर, चांडिल एवं नीमडीह प्रखंड में कोविड-19 टीकाकरण कार्य संतोषजनक नहीं है, जिसके कारण स्पष्टीकरण जारी किया गया है.

कोरोना महाटीकाकारण अभियान में सुस्ती पर हुई कार्रवाई

सरायकेला सिविल सर्जन ने सभी को 24 घंटे के अंदर जबाब देने को कहा है. सीएस ने कहा कि कोविड के महाटीकाकरण अभियान में इन प्रखंडों में टीकाकरण गति काफी धीमी पाई गई है. सिविल सर्जन ने कहा है कि बार-बार निर्देश के बावजूद भी इन प्रखंडों में टीकाकरण तेजी नहीं लाई जा रही है जबकि टीकाकरण अभियान के तहत 100 प्रतिशत उपलब्धि हासिल करनी है.

शत प्रतिशत टीकाकरण कर डाटा करें अपलोड

सिविल सर्जन डॉ विजय कुमार ने सभी सीएचसी के प्रभारी को निर्देश दिया है कि 25 जनवरी तक इन प्रखंडों में निर्धारित लक्ष्य का शत प्रतिशत टीकाकरण कर डाटा पोर्टल पर अपलोड करना है. सीएस ने बताया कि कई प्रखंडों में टीकाकरण अभियान में तेजी आ गई है. कुचाई में धीमी प्रगति है. उससे भी अभियान में तेजी लाने को कहा गया है.

लापरवाही बरतने पर होगी कड़ी कार्रवाई

सीएस ने बताया कि शतप्रतिशत टीकाकरण कर पोर्टल पर अपलोड नहीं किए जाने की स्थिति में इन प्रखंडों से संबंधित सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी, प्रखंड लेखा प्रबंधक एवं प्रखंड डाटा प्रबंधकों का वेतन एवं मानदेय बंद करने की कार्रवाई की जायेगी. शत प्रतिशत कोविड-19 टीकाकरण कर डाटा पोर्टल पर अपलोड नहीं किए जाने पर प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के विरुद्ध प्रपत्र क भरकर विभागीय कार्रवाई की अनुशंसा की जायेगी, जबकि अनुबंध कर्मियों की सेवा समाप्ति के लिए राज्य स्तरीय पदाधिकारी को पत्राचार किया जाएगा.

रिपोर्ट: प्रताप मिश्रा

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें