1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. saraikela kharsawan
  5. cm hemant soren online inaugurated oxygen plant in kuchai chc now corona infected get the facility smj

CM हेमंत सोरेन ने कुचाई CHC में बने ऑक्सीजन प्लांट का किया ऑनलाइन उद्घाटन, अब संक्रमितों को मिलेगी सुविधा

सीएम हेमंत सोरेन ने कुचाई में बने PSA ऑक्सीजन प्लांट का ऑनलाइन उद्घाटन किया. इस ऑक्सीजन प्लांट के होने से अब ऑक्सीजन सपोर्टेड बेडों तक ऑक्सीजन आसानी से पहुंच जायेगी.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
Jharkhand news: कुचाई सीएचसी में ऑक्सीजन प्लांट का ऑनलाइन उद्घाटन करते सीएम हेमंत सोरेन.
Jharkhand news: कुचाई सीएचसी में ऑक्सीजन प्लांट का ऑनलाइन उद्घाटन करते सीएम हेमंत सोरेन.
प्रभात खबर.

Jharkhand news: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बुधवार को सरायकेला-खरसावां जिला के कुचाई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में बने ऑक्सीजन प्लांट का रांची से ऑनलाइन उदघाटन किया. कुचाई सीएचसी में किसी तरह का कार्यक्रम आयोजित नहीं की गयी. कुचाई सीएचसी के प्रभारी डॉ शिव चरण हांसदा और डॉ सुशील महतो भी कार्यक्रम स्थल पर मौजूद थे, जबकि स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, डीसी अरवा राजकमल, सिविल सर्जन डॉ विजय कुमार आदि कार्यक्रम में ऑनलाइन जुड़े थे.

मालूम हो कि इस PSA अक्सीजन प्लांट का शिलान्यास गत 25 सितंबर, 2021 को स्थानीय सांसद सह केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने किया था. करीब साढ़े तीन माह में ही ऑक्सीजन प्लांट बनकर तैयार हो गया. ऑक्सीजन प्लांट का एन्सटाॅलेशन नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (सीएचआरआई/पीएटीएच) के सौजन्य से किया गया है.

ऑक्सीजन प्लांट से प्रति मिनट 200 लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन होगा

कुचाई सीएचसी में 20 ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड के साथ पीएसए अक्सीजन प्लांट लगाया गया है. ऑक्सीजन प्लांट से प्रति मिनट 200 लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन होगा. कुचाई सीएचसी के प्रभारी डॉ शिव चरण हांसदा ने बताया कि प्लांट से ऑक्सीजन सपोर्टेड बेडों तक ऑक्सीजन जायेगी. फिर मीटर के माध्यम से मरीजों को ऑक्सीजन मिलेगी. बाद में जरूरत पड़ने पर बेड़ों की संख्या बढ़ाई जायेगी.

सिलिंडेर सिस्टम की प्रक्रिया से मिलेगी निजात

ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना होने के बाद ऑक्सीजन सिलेंडर की लंबी प्रक्रिया से निजात मिल जायेगी. कोरोना के दूसरे लहर के दौरान जिले में ऑक्सीजन के लिए स्वास्थ्य विभाग को काफी मशकत करनी पडी थी. ऑक्सीजन जमशेदपुर और आदित्यपुर से मिलता था. ऑक्सीजन के लिए प्लांट को ऑक्सीजन सिलिंडर उपलब्ध कराना, सिलिंडर खाली होने पर दूसरे ऑक्सीजन सिलिंडर की व्यवस्था करना, अलग-अलग मरीजों के लिए अलग-अलग ऑक्सीजन सिलिंडर लगाने सहित अन्य जटिल प्रक्रिया से भी निजात मिलेगी.

रिपोर्ट : शचिन्द्र कुमार दाश, सरायकेला-खरसावां.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें