धान की खेती के साथ तसर कीट पालन का काम भी शुरू

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

खरसावां : सरायकेला-खरसावां जिले में जून माह में सामान्य वर्षा दर्ज हुई. जिले में जून महीने में सामान्यत: 122.8 मिमी बारिश होती है, जबकि इस वर्ष विगत महीने (जून) में 122.7 मिमी वर्ष दर्ज की गयी. जिले में पिछले वर्ष जून में मात्र 80.2 मिमी ही बारिश हुई थी. इस वर्ष बारिश के साथ ही कृषि कार्यों में भी तेजी आ गयी है.

खेतों में हल जुताई तथा धान की बुआई का काम शुरू हो गया है. जून के पहले दो हफ्तों में जिले में कम बारिश हुई, परंतु अंतिम हफ्ते में अच्छी बारिश हुई. पिछले एक हफ्ते से जिले में रुक-रुक कर बारिश हो रही है तथा अभी भी आसमान में काले बादल छाये हुए हैं. अगले दो-तीन दिनों में और बारिश होने की संभावना जतायी गयी है.

खरसावां-कुचाई के तसर किसानों के चेहरे खिले : जून के अंतिम सप्ताह में हुई बारिश से खरसावां-कुचाई क्षेत्र के तसर उत्पादकों के चेहरे खिल गये हैं. कम बारिश के कारण धान के साथ साथ तसर की खेती भी प्रभावित हो रही थी. कम बारिश के कारण तसर के अंडों का सही मात्र में उत्पादन नहीं हो पाता है. तसर अंडों की पर्याप्त संख्या के लिए लगातार पांच दिन तक बारिश की जरूरत होती है. बारिश शुरू होते ही अंडों की तेजी से वृद्धि हो रही है, जिससे तसर कीट पालन का कार्य भी शुरू हो गया है. खरसावां में अब तक करीब 35 हजार तसर अंडों का उत्पादन हो चुका है.

जून में सामान्य से .1 मिमी कम, 122.7 मिमी बारिश

जून महीने में जिले में औसत 122.7 मिमी बारिश दर्ज हुई जो सामान्य से 0.1 मिमी कम है. जिले में इस दौरान सबसे अधिक खरसावां व सबसे कम नीमडीह में बारिश हुई. कृषि विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जून में जिले के सरायकेला प्रखंड में सामान्य 132 मिमी के विरुद्ध 147.2 मीमी वर्षा दर्ज की गयी. खरसावां में इस दौरान 162.1 के विरुद्ध 165.8 मिमी, कुचाई में 163.0 के विरुद्ध 167.4 मिमी, गम्हरिया में 219.0 के विरुद्ध 119.8 मिमी, राजनगर में 150.0 के विरुद्ध 78.1 मिमी, चांडिल में 217 के विरुद्ध 117.2 मिमी, नीमडीह में 89.9 के विरुद्ध 71.6 मिमी, ईचागढ़ में 65.4 के विरुद्ध 127.3 मिमी तथा कुकड़ू प्रखंड में 51.0 के विरुद्ध 73.1 मिमी बारिश दर्ज की गयी.

    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें