1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. sahibgunj
  5. jharkhand news milk collection starts at sahibganj dairy plant production will start before diwali grj

Jharkhand News : झारखंड के साहिबगंज डेयरी प्लांट में आज से दूध का कलेक्शन शुरू, कब से शुरू होगा उत्पादन

साहिबगंज जिले में 50 हजार लीटर क्षमता वाले डेयरी प्लांट का भवन सदर प्रखंड के महादेवगंज गौशाला के समीप बनकर तैयार है. प्लांट में 90 फीसदी मशीन स्थापित हो चुकी है. शेष मशीनें अक्टूबर तक स्थापित हो जायेंगी. प्रोडक्शन नवंबर माह से शुरू होगा.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand News : बनकर तैयार है साहिबगंज का डेयरी प्लांट
Jharkhand News : बनकर तैयार है साहिबगंज का डेयरी प्लांट
प्रभात खबर

Jharkhand News, साहिबगंज न्यूज (नवीन कुमार) : झारखंड के साहिबगंज जिले के डेयरी प्लांट में एक अक्टूबर से दूध का कलेक्शन शुरू गया है. दूध कलेक्शन के लिए जिले के प्रखण्डों में समिति का गठन किया गया है. वहीं दूध सेंटर में ऑटोमेटिक दूध जांच की सुविधा है, जिससे दूध देने वाले किसानों का दूध किस क्वालिटी का है इसकी जांच होगी और दूध की क्वालिटी के हिसाब से ही दुग्ध उत्पादकों को पेमेंट किया जाएगा. वहीं डेयरी प्लांट में दीपावली से पहले प्रोडक्शन का कार्य शुरू हो जाएगा. युद्ध स्तर पर डेयरी प्लांट में मशीन स्थापित करने का कार्य किया जा रहा है. तीन शिफ्ट में 24 घण्टे कर्मी मशीन स्थापित करने का कार्य कर रहे हैं.

साहिबगंज जिले में 50 हजार लीटर क्षमता वाले डेयरी प्लांट का भवन सदर प्रखंड के महादेवगंज गौशाला के समीप बनकर तैयार है. प्लांट में 90 फीसदी मशीन स्थापित हो चुकी है. शेष मशीनें अक्टूबर तक स्थापित हो जायेंगी. डेयरी प्लांट का भवन बनकर तैयार है. डेयरी प्लांट का प्रोडक्शन नवंबर माह से शुरू होगा. डेयरी प्लांट की आधारशिला पीएम मोदी ने अप्रैल 2017 में रखी थी. 34 करोड़ की लागत से इसका निर्माण किया जा रहा है. इसकी तय समय सीमा दिसंबर 2020 थी, लेकिन कोरोना और फंड के अभाव में बीच में कार्य बाधित रहा था. डेयरी प्लांट का भवन निर्माण पूर्ण है और प्लांट में मशीन को स्थापित करने का कार्य भी युद्ध गति से चल रहा है. मशीन प्लांट में 90 फीसदी तक पहुंच गयी है. शेष जल्द स्थापित कर दिया जाएगा और नवम्बर माह तक प्लांट में प्रोडक्शन शुरू हो जाएगा. डेयरी प्लांट का कैपिसिटी एक दिन में 50 हजार लीटर का है और अधिकतम एक लाख किया जा सकता है. मेधा डेयरी ब्रांड के नाम से बाजार में प्रोडक्ट आयेगा. आपको बता दें कि डेयरी प्लांट कार्य की प्रगति रिपोर्ट पीएमओ द्वारा सप्ताह पन्द्रह दिनों में ली जाती है.

झारखंड का इकलौता जिला साहिबगंज है, जहां मां गंगा की अविरल निर्मल धारा बहती है. वहीं मां गंगा की नगरी प्रदेश का एकलौता जिला है, जहां वृहद पैमाने पर दुग्ध का उत्पादन होता है. दियारा क्षेत्र से लेकर शहरी व पहाड़ी क्षेत्रों और ग्रामीण क्षेत्रो में वृहद पैमाने पर गौ पालन करके दुग्ध उत्पादन किया जाता है. यहां दुग्ध का बाजार नहीं रहने से मवेशी पालकों को दुग्ध का सही दाम नहीं मिल पाता है, डेयरी प्लांट शुरू हो जाने से पशुपालक दुग्ध को डेयरी प्लांट में बेच सकेंगे. जिससे उन्हें उचित कीमत मिलेगी.

कुछ गांव व पंचायत मिलाकर संबंधित कम्पनी कलेक्शन सेंटर बनाई है. जहां से दुग्ध उत्पादक किसान उस जगह आकर अपना दुग्ध देंगे. वहीं पर दूध की क्वालिटी की जांच ऑनलाइन होगी. किसानों को डेयरी प्लांट अपना दुग्ध बेचने नहीं आना होगा. संबंधित कम्पनी उनसे सम्बंधित कलेक्शन सेंटर में ही दूध खरीद लेगी. वहीं दुग्ध को कलेक्शन सेंटर से प्लांट तक लाने के लिए रूट चार्ट भी बना लिया गया है. दुग्ध के टैंकर की मदद से कलेक्शन सेंटर से दूध डेयरी प्लांट पहुंचेगा. जहां धर्मकांटा के जरिये दूध माप होने के बाद टैंकर के माध्यम से ही देवघर जाएगा. नवम्बर माह से प्रोडक्शन स्टार्ट होने के बाद यहां का दूध यहीं पर पैकिंग होगा और पनीर, दूध, मट्ठा, लस्सी इत्यादि बनेगा.

डेयरी प्लांट में बिजली कनेक्शन करने के लिए विद्युत विभाग में अप्लाई किया गया है. डेयरी प्लांट में किसानों को प्रशिक्षण देने के लिए एक अलग से क्लासरूम बनाया गया है, जहां जिले के किसानों को दुग्ध उत्पादन कैसे करना है, उसके टिप्स और ज्यादा से ज्यादा दुग्ध उत्पादन से जुड़कर आय दुगनी करने और कैसे ज्यादा से ज्यादा दूध उत्पादन करें, इसका प्रशिक्षण दिया जाएगा. गव्य विकास द्वारा दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए किसानों के बीच गाय उपलब्ध करायी जायेगी, ताकि उनकी आय दोगुनी हो सके. डेयरी प्लांट में सैकड़ों लोगो को रोजगार मिलेगा और हजारों किसान इससे जुड़कर अपनी आय को दोगुना कर सकेंगे.

एक नजर डेयरी प्लांट

प्रसंस्करण और उत्पाद क्षमता :

तरल दूध का पाउच पैकिंग 41 हजार लीटर प्रतिदिन

लस्सी और मक्खन दूध 5000 लीटर प्रतिदिन

दही की पैकिंग 2500 किग्रा प्रतिदिन

पनीर पैकिंग 500 किग्रा प्रतिदिन

झारखंड मिल्क फेडरेशन के जीएम जयदेव विश्वास ने बताया कि प्रदेश में तीसरा डेयरी प्लांट बनकर तैयार है. एक अक्टूबर से दूध कलेक्शन होगा. क्वालिटी जांच करके दूध लिया जाएगा, दस दिनों में दूध का पैसा ऑनलाइन दुग्ध पालकों को दिया जाएगा और 1 रुपया सब्सिडी भी दिया जाएगा. दूध को स्टार्ट में कलेक्शन करके सारठ या देवघर जाएगा टैंकर के माध्यम से, नवम्बर माह से प्रोडक्शन शुरू होगा. 50 हजार लीटर कैपिसिटी प्रतिदिन है. मैक्सिमम 1 लाख किया जा सकता है. मेधा डेयरी ब्रांड से बाजार में दूध,लस्सी, मक्खन, दही, पनीर आयेगा. रूट चार्ट बनाया गया है. जगह-जगह किसानों से दूध कलेक्ट करने के लिए कलेक्शन सेंटर बनाया गया है, डेयरी प्लांट किसानों के लिए है. किसान इसको चलाए. दूध कलेक्शन होकर यहां चिल्ड मिल्क आएगा, ठंडा होने से बैक्टीरिया खत्म होती है. मार्किट के हिसाब से टोन मिल्क, डबल मिल्क सहित अन्य होगा.

राजमहल विधायक अनंत ओझा ने कहा कि मेरा ड्रीम प्रोजेक्ट पूर्ण हुआ. ये काफी खुशी की बात है. जल्द ही डेयरी प्लांट में प्रोडक्शन शुरू होगा. किसानों दुग्ध पालकों की आय दुगनी होगी. दुग्ध पालकों को डेयरी प्लांट के जरिये बाजार मिलेगा.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें