1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. subhash chandra bose jayanti 2021 what is the jharkhand connection of subhash chandra bose the hero of azad hind fauj read how netaji had prepared the strategy of ramgarh session in ranchi on parakram divas grj

Subhash Chandra Bose Jayanti : आजाद हिंद फौज के नायक सुभाष चंद्र बोस का क्या है झारखंड कनेक्शन, पढ़िए कैसे नेता जी ने रांची में तैयार की थी रामगढ़ अधिवेशन की रणनीति

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
Subhash Chandra Bose Jayanti 2021 : रांची में फणींद्रनाथ आयकत के परिवार के साथ सुभाष चंद्र बोस
Subhash Chandra Bose Jayanti 2021 : रांची में फणींद्रनाथ आयकत के परिवार के साथ सुभाष चंद्र बोस
फाइल फोटो

Subhash Chandra Bose Jayanti 2021, Ranchi News, रांची न्यूज (अभिषेक रॉय ) : स्वतंत्रता संग्राम में शायद ही ऐसी कोई शख्सीयत है, जो नेताजी सुभाषचंद्र बोस की तरह रोमांच पैदा करती हो. कोलकाता के अपने घर से पठान के वेश में पेशावर होते काबुल जानेवाले नेताजी हमेशा रहस्यमय बने रहे. मां-बाप की 14 संतानों में नौवें नंबर पर विराजमान इस विराट पुरुष की हवाई दुर्घटना में हुई मौत आज भी अपुष्ट व संदिग्ध है. इसमें कोई संदेह नहीं कि नेताजी के नेतृत्व में 30-35 हजार युद्ध बंदियों के एकजुट होकर अपने देश की स्वतंत्रता के लिए किये गये संघर्ष जैसा कोई अन्य दृष्टांत दुनिया में दिखायी नहीं देता. इन्हीं नेताजी की आज 125वीं जयंती है. केंद्र सरकार ने इस दिन को पराक्रम दिवस घोषित किया है. झारखंड से भी नेताजी की ढेरों यादें जुड़ी हुई हैं. आज इन्हीं यादों को हम फिर से जीते हैं.

आजाद हिंद फौज के नायक नेताजी सुभाषचंद्र बोस 1940 के दशक में कई बार झारखंड आये. इस दौरान नेताजी लालपुर स्थित मित्र फणींद्रनाथ आयकत के घर रुका करते थे. यहीं नेताजी ने 20 मार्च 1940 को रामगढ़ में आयोजित होनेवाले 53वें कांग्रेस अधिवेशन की रणनीति तैयार की थी. इस अधिवेशन में हिस्सा लेने महात्मा गांधी भी रामगढ़ पहुंचे थे. नेताजी उन दिनों नजरबंद रहते थे. अधिवेशन में हिस्सा लेने के लिए चक्रधरपुर के रास्ते रांची पहुंचे थे.

1940 के दशक में रांची के प्रख्यात चिकित्सक डॉ फनींद्रनाथ चटर्जी की ही गाड़ी से नेताजी रांची पहुंचे थे. उनके परपोते अरूप चटर्जी ने बताया कि उस समय दादा के पास फियेट कार (बीआरएन - 70) थी. इस गाड़ी से ही नेताजी अधिवेशन में चक्रधरपुर से रांची और रांची से रामगढ़ अधिवेशन में शामिल होने गये थे.

इसी गाड़ी से चक्रधरपुर से रांची आये थे नेता जी
इसी गाड़ी से चक्रधरपुर से रांची आये थे नेता जी
फाइल फोटो

नेताजी ने रांची तक पहुंचने के लिए अपने दोस्त व क्रांतिकारी डॉ यदुगोपाल मुखर्जी, डॉ फनींद्रनाथ चटर्जी और फनींद्रनाथ आयकत की मदद ली. 17 मार्च को नेताजी को लाने फनींद्रनाथ आयकत अपने मित्र सह डॉ फनींद्रनाथ चटर्जी की फोर्ड गाड़ी लेकर चक्रधरपुर गये थे. रांची आने के बाद नेताजी ने अपने दोस्तों और आस-पास रहनेवाले लोगों के साथ मिलकर घंटों देश की राजनीति और स्वतंत्रता संघर्ष पर चर्चा की थी.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें