1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. religious place not open in jharkhand for the time being the order of the supreme court studied the decision taken in the meeting of the disaster management authority smj

झारखंड में फिलहाल नहीं खुलेंगे मंदिर, सुप्रीम कोर्ट के आदेश का होगा अध्ययन,आपदा प्रबंधन की बैठक में हुआ निर्णय

झारखंड CM हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में बुधवार को आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक हुई. बैठक में राज्य में धार्मिक स्थलों को खोले जाने पर फिलहाल कोई सहमति नहीं बनी. इस दौरान मंदिर खोले जाने के मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अध्ययन करने का निर्देश CM श्री सोरेन ने दिया है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
CM हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक में शामिल मंत्री व पदाधिकारीगण.
CM हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक में शामिल मंत्री व पदाधिकारीगण.
ट्विटर.

Jharkhand News (रांची) : बुधवार को आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक आयोजित हुई. CM हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में सुप्रीम कोर्ट में चल रहे मामले को लेकर मंदिर खोलने पर निर्णय नहीं हो सका. फिलहाल राज्य में मंदिर नहीं खुलेगी. अब अगले सप्ताह होने वाली बैठक पर सबकी निगाहें टिक गयी है. बैठक के बाद बताया गया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अध्ययन के बाद ही राज्य में मंदिर खोलने पर निर्णय होगा.

आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक आयोजित होने से यह संभावना बढ़ गयी थी कि राज्य में कोरोना काल से बंद धार्मिक स्थलों को जल्द खोला जायेगा. बैठक में CM हेमंत सोरेन को आपदा प्रबंधन सचिव अमिताभ कौशल ने बताया कि देवघर स्थित बाबा मंदिर खोलने के संबंध में सुप्रीम कोर्ट द्वारा पारित आदेश समाचार पत्रों में प्रकाशित हुए है. इस पर CM श्री सोरेन ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश की प्रति जल्द पेश करते हुए इस आदेश का अध्ययन करने का निर्देश दिया है. साथ ही, अगले सप्ताह आपदा प्रबंधन की बैठक में इस पर फैसला लिये जाने की बात कही है.

बता दें कि पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने बाबा बैद्यनाथ धाम और बाबा बासुकिनाथ मंदिर को जल्द खोलने संबंधी याचिका पर शीघ्र सुनवाई से इनकार किया है. चीफ जस्टिस एनवी रमन्ना की पीठ ने इस मामले की सुनवाई करते हुए आदेश दिया. चीफ जस्टिस ने कहा था कि कोरोना संक्रमण से पूरा विश्व परेशान है. ऐसे में मंदिर खोलने संबंधी याचिका पर तत्काल जरूरत नहीं है. वहीं, याचिकाकर्ता के वकील प्रशांत कुमार ने कहा था कि झारखंड में कोरोना के मामले कम आ रहे हैं. बता दें कि देवघर के पंडा एवं पुजारियों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर इस मामले की जल्द सुनवाई का आग्रह किया था.

इधर, झारखंड विधानसभा के मानसून सत्र में देवघर विधायक नारायण दास समेत अन्य विपक्ष के नेताओं ने धार्मिक स्थल खोलने की मांग की है. बुधवार को विधानसभा परिसर पर बीजेपी विधायक नारायण दास आमरण अनशन पर बैठे हैं. सदन के बाहर आमरण अनशन पर बैठे विधायक नारायण दास ने राज्य सरकार से जल्द धार्मिक स्थलों को खोले जाने की मांग की है.

आपदा प्रबंधन की बैठक में स्वास्थ्य व आपदा प्रबंधन मंत्री बन्ना गुप्ता, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, प्रधान सचिव वित्त विभाग अजय कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे, सचिव ग्रामीण विकास अबु बकर सिद्दीकी उपस्थित थे.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें