1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand news traditional tribal jewelery adiva get a new identity dumka and khunti shg group are making jewelery smj

Jharkhand News: पारंपरिक आदिवासी ज्वेलरी 'आदिवा' से मिलेगी नयी पहचान, दुमका व खूंटी की दीदियां बना रही आभूषण

ग्रामीण विकास विभाग के तहत JLSPS से जुड़ी सखी मंडल की दीदियां आदिवासी ज्वेलरी बना रही है. इससे झारखंड की धरोहर आदिवासी ज्वेलरी 'आदिवा' को एक नयी पहचान मिलेगी. यह पलाश ब्रांड अंतर्गत सखी मंडल की बहनों द्वारा निर्मित ज्वेलरी है. दुमका एवं खूंटी की दीदियां इन ज्वेलरी को बना रही है.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
JSLPS के पलाश ब्रांड के तहत आदिवासी ज्वेलरी 'आदिवा' को लॉन्च करती CEO नैंसी सहाय व दीदियां.
JSLPS के पलाश ब्रांड के तहत आदिवासी ज्वेलरी 'आदिवा' को लॉन्च करती CEO नैंसी सहाय व दीदियां.
आजीविका.

Jharkhand News (रांची) : झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन की पहल पर ग्रामीण विकास विभाग का झारखंड स्टेट लाइवलीहुड प्रमोशन सोसाइटी (JSLPS) से जुड़ीं सखी मंडल की दीदियों के उत्पादों को बड़े बाजार से जोड़ने के लिए पलाश ब्रांड की शुरुआत हुई है. इससे ग्रामीण महिलाओं की आमदनी में इजाफा हुआ है. इसी कड़ी में राज्य की पहचान आदिवासी ज्वेलरी को विशिष्ट रूप से स्थापित करने के लिए 'आदिवा' आदिवासी ज्वेलरी ब्रांड का शुभारंभ किया गया है. लॉन्चिंग कार्यक्रम में JSLPS की CEO नैंसी सहाय ने सखी मंडल की दीदियों के साथ आदिवा ज्वेलरी के कैटलॉग का विमोचन कर इस ब्रांड का शुरुआत की.

बताया गया कि आदिवा ब्रांड के लॉन्च का मुख्य उद्देश्य राज्य के पारंपरिक आभूषण को एक नयी पहचान के जरिये बड़े बाजार से जोड़कर ग्रामीण महिलाओं को स्वरोजगार एवं राज्य की धरोहर आदिवासी ज्वेलरी को सहेजना है. ग्रामीण विकास विभाग के सचिव डॉ मनीष रंजन के मार्गदर्शन में सखी मंडल की महिलाओं द्वारा निर्मित आदिवासी आभूषण को बड़े बाजार से जोड़कर उद्यमिता के नये आयाम स्थापित करने का प्रयास है 'आदिवा'.

सखी मंडल द्वारा हस्तनिर्मित आदिवासी ज्वेलरी को आदिवा देगा नया कलेवर

'आदिवा' के लॉन्चिंग कार्यक्रम में राज्य के सभी 24 जिलों से जेएसएलपीएस की टीम ऑनलाइन जुड़ी थी. वहीं, आदिवा ज्वेलरी निर्माण से जुड़ी खूंटी के मुरहू की कुछ महिलाएं लॉंचिंग कार्यक्रम में मौजूद थी. ज्वेलरी सह ब्रांड 'आदिवा' की लॉन्चिंग पर खुशी जाहिर करते हुए खूंटी की यशोदा देवी ने कहा कि इस पहल से हम बहनों द्वारा हस्तनिर्मित ज्वेलरी को नया कलेवर मिल पा रहा है. मुझे उम्मीद है कि हमारे द्वारा निर्मित आदिवासी आभूषण महिलाओं की सुंदरता में चार-चांद लगायेंगे एवं उनकी पहली पसंद बनेगी. सखी मंडल की दीदियां चांदी, सिल्वर, मेटल आदि से पारंपरिक आदिवासी ज्वेलरी बना रही है.

ऑनलाइन उपलब्ध होगी आदिवा ज्वेलरी

'आदिवा' की लॉन्चिंग से राज्य की कला और संस्कृति को राष्ट्रीय पटल पर लाने में सहयोग मिलेगा. आदिवा आभूषण की खरीदारी ऑनलाइन माध्यम से पलाश मार्ट मोबाइल एप्लिकेशन के जरिये की जा सकती है एवं पलाश मार्ट में भी उपलब्ध रहेगा.

आदिवा ज्वेलरी से मिलेगी नयी पहचान : नैंसी सहाय

'आदिवा' की लॉन्चिंग के मौके पर जेएसएलपीएस की मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी नैंसी सहाय ने आदिवासी ज्वेलरी बनाने वाली सखी मंडल की महिलाओं को शुभकामना दी. साथ ही अधिक से अधिक ग्रामीण महिलाओं को इस हुनर से जोड़ने की बात कही. कहा कि पलाश ब्रांड अंतर्गत ज्वेलरी सह ब्रांड 'आदिवा' की शुरुआत की गयी है. इसके जरिये राज्य के आदिवासी परंपरागत आभूषणों को एक पहचान मिल सकेगी. उन्होंने कहा कि राज्य की समृद्ध परंपरा का अंदाजा सखी मंडल की दीदियों द्वारा निर्मित आदिवा ब्रांड की ज्वेलरी से लगाया जा सकता है.

ग्रामीण महिलाओं की आय की में होगी बढ़ोतरी : डॉ मनीष रंजन

ग्रामीण विकास विभाग के सचिव डॉ मनीष रंजन ने आदिवासी ज्वेलरी ब्रांड आदिवा के लॉंचिंग पर सखी मंडल की बहनों को शुभकामना देते हुए कहा कि यह एक अभिनव प्रयास है. इससे ग्रामीण महिलाओं की आय में उल्लेखनीय बढ़ोतरी होगी. उन्होंने उम्मीद जताया कि सखी मंडल की बहनों द्वारा हस्तनिर्मित आभूषण एवं अन्य उत्पाद राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान स्थापित करेंगे. उन्होंने सखी मंडल की बहनों को पलाश ब्रांड के तहत अधिक से अधिक महिलाओं को जोड़ने की अपील की, ताकि ग्रामीण विकास विभाग की इस पहल का लाभ सुदूर गांव की हर उद्यमी महिला तक पहुंच सके.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें