1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand news ias officer amit khare exposed the fodder scam and mv rao dgp in charge of jharkhand retired smj

Jharkhand: चारा घोटाला को उजागर करने वाले IAS अधिकारी अमित खरे व झारखंड के प्रभारी DGP रहे एमवी राव हुए रिटायर

झारखंड-बिहार कैडर के दो अधिकारी गुरुवार को रिटायर हो गये हैं. चारा घोटाला को उजागर करने वाले IAS ऑफिसर अमित खरे और झाखंड के पूर्व प्रभारी डीजीपी एमवी राव 30 सितंबर को रिटायर हो गये हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
बिहार- झारखंड कैडर के IAS ऑफिसर अमित खरे और IPS ऑफिसर एमवी राव हुए रिटायर.
बिहार- झारखंड कैडर के IAS ऑफिसर अमित खरे और IPS ऑफिसर एमवी राव हुए रिटायर.
सोशल मीडिया.

Jharkhand News (रांची) : 30 सितंबर, 2021 को झारखंड के दो अधिकारी रिटायर हो गये. चारा घोटाला को उजागर करने वाले तेज तर्रार IAS ऑफिसर अमित खरे और झारखंड के प्रभारी DGP रहे एमवी राव गुरुवार को रिटायर हो गये हैं. वर्तमान में IAS ऑफिसर श्री खरे सूचना जनसंपर्क मंत्रालय के सचिव के भी प्रभार में थे, वहीं IPS ऑफिसर श्री राव होमगार्ड डीजी सह अग्निशमन के महासमादेष्टा (General Commandant) पद पर कार्यरत थे.

तेज तर्रार IAS ऑफिसर अमित खरे को जानें

1985 बैच के बिहार- झारखंड कैडर के IAS अधिकारी अमित खरे तेज तर्रार अधिकारी में शुमार हैं. 36 साल के कार्यकाल में श्री खरे ने कई कार्यों को अंजाम दिया जो देश भर में सुर्खियां बटाेरी. श्री खरे की बात करने पर चारा घोटाला का मामला सबसे पहले जेहन में आता है. पश्चिमी सिंहभूम जिला के डीसी रहते हुए श्री खरे ने वर्ष 1996 में चारा घोटाला मामले का खुलासा किया था. इस मामले को लेकर प्राथमिकी भी दर्ज करायी गयी थी. इसके कारण ही बिहार के पूर्व सीएम सह राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और पूर्व सीएम जग्रनाथ मिश्र को जेल तक जानी पड़ी.

IAS अधिकारी श्री खरे झारखंड के पहले वाणिज्यकर आयुक्त (Commercial Tax Commissioner) भी थे. इसके अलावा शिक्षा, वित्त और राज्यपाल के प्रधान सचिव से लेकर विकास आयुक्त के पद भी श्री खरे ने कार्य किये हैं. केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर गये श्री खरे ने कई बेहतर कार्य किये हैं. श्री खरे के नेतृत्व में देश में नई शिक्षा नीति 2020 को लागू किया गया.

वहीं, केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण सचिव के अतिरिक्त प्रभार में रहने के दौरान झारखंड दूरदर्शन समेत दर्जनों सैटेलाइट चैनल लॉन्च कराने में महती भूमिका निभायी. इसके अलावा डिजिटल मीडिया पॉलिसी सहित प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को मजबूती प्रदान करने में अहम भूमिका निभायी.

वर्ष 1961 में जन्मे अमित खरे की प्रारंभिक शिक्षा रांची के हिनू स्थित केंद्रीय विद्यालय से हुई. इसके बाद सेंट स्टीफन कॉलेज, दिल्ली से ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की. श्री खरे के बड़े भाई अतुल खरे भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी रहे हैं. इधर, श्री खरे की पत्नी भी IAS आॅफिसर हैं. श्री खरे की पत्नी निधि खरे भी झारखंड के कई विभागों में महत्वपूर्ण जिम्मेवारी निभा चुकी है. श्रीमती खरे फिलहाल केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय में अपर सचिव के पद पर तैनात हैं.

रांची के जैप-1 ग्राउंड में बिहार-झारखंड के 1987 बैच के IPS ऑफिसर एमवी राव को दी गयी विदाई.
रांची के जैप-1 ग्राउंड में बिहार-झारखंड के 1987 बैच के IPS ऑफिसर एमवी राव को दी गयी विदाई.
ट्विटर.

झारखंड कैडर के IPS ऑफिसर एमवी राव भी हुए रिटायर

1987 बैच के झारखंड कैडर के IPS ऑफिसर एमवी राव भी गुरुवार को रिटायर हुए हैं. रांची के डोरंडा स्थित जैप-1 ग्राउंड में श्री राव को विदाई दी गयी. इस विदाई समारोह में झारखंड के डीजीपी नीरज सिन्हा सहित पुलिस के अन्य अधिकारी शामिल हुए हैं. श्री राव झारखंड के प्रभारी DGP भी रह चुके हैं. फिलहाल होमगार्ड डीजी सह अग्निशमन के महासमादेष्टा पद पर रिटायर हुए हैं.

IPS ऑफिसर एमवी राव दो बार रांची के SSP रह चुके हैं. इसके अलावा गुमला व हजारीबाग में भी एसपी पद पर अपनी सेवा दे चुके हैं. इसके अलावा ACB में दो बार आईजी, बोकारो आईजी, CID के ADG, नई दिल्ली में पुलिस आधुनिकीकरण कैंप के CEO के पद पर भी रह चुके हैं. CID के ADG बनते ही श्री राव ने बकोरिया मुठभेड़ की जांच तेज कर दी थी.

श्री राव 15 मार्च, 2020 को झारखंड के प्रभारी डीजीपी बने. 11 माह तक इस पद थे. इसके बाद गृह रक्षा वाहिनी सह अग्निशमन के डीजी के पद पर पदस्थापित हुए थे. झारखंड के प्रभारी डीजीपी बनने पर झारखंड सरकार के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका भी दाखिल हुआ था.

11 माह में ही झारखंड डीजीपी पद से हटने पर श्री राव थोड़ा मायूस भी हुए थे. रिटायर होने के बाद किसान बनने की इच्छा जाहिर की थी. श्री राव ने कहा था कि जब अधिक काम नहीं था, तो उसने खेती-बारी के गुर भी सीखें थे. इस दौरान वीआरएस लेने की भी इच्छा जाहिर की थी. इसको लेकर श्री राव ने अपने ट्विटर प्रोफाइल से डीजी समेत कई अन्य जानकारियों को भी हटा दिये थे.

इधर, विदाई समारोह को संबोधित करते हुए श्री राव ने बिहार एवं झारखंड की बहादुर, कर्तव्यनिष्ठ पुलिसकर्मियों एवं पदाधिकारियों को बधाई भी दी. उन्होंने कहा कि इस सेवा में सफलता आप सबके सराहनीय योगदान का परिणाम है.
इसके लिए आप सभी का आभारी हूं.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें